रिटर्न दाखिल न करने वाले 67.54 लाख लोगों की पहचान

रिटर्न दाखिल न करने वाले 67.54 लाख लोगों की पहचान

- in कारपोरेट
0

नई दिल्ली

itr22-300x204नोटबंदी से कालेधन पर चोट करने के बाद सरकार अब कर चोरी करने वालों को पकड़ने में जुट गयी है। इसी दिशा में कदम बढ़ाते हुए आय कर विभाग ने 67.54 लाख लोगों की पहचान की है जिन्होंने वित्त वर्ष 2014-15 के दौरान बड़े लेन-देन तो किए हैं लेकिन आयकर रिटर्न दाखिल नहीं किया है। विभाग अब ऐसे लोगों को नोटिस भेजने की तैयारी कर रहा है।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने गुरुवार को कहा कि आयकर विभाग ने नॉन-फाइलर मॉनिटरिंग सिस्टम के जरिए आय कर रिटर्न दाखिल न करने वालों की यह सूची तैयार की है। आयकर विभाग का सिस्टम महानिदेशालय वार्षिक सूचना रिटर्न, केंद्रीय सूचना ब्रांच और टीडीएस तथा टीसीएस के आंकड़ों का विश्लेषण करके पता लगाया है।

सीबीडीटी ने कहा कि आयकर विभाग ने पांचवे दौर के आंकड़ों का परीक्षण कर 67.54 लाख लोगों की पहचान की है जिन्होंने आयकर रिटर्न दाखिल नहीं किया। हालांकि वित्त वर्ष 2014-15 में इन लोगों ने बड़े लेन-देन किए लेकिन आकलन वर्ष 2015-16 में रिटर्न दाखिल नहीं किया।

सीबीडीटी ने कहा कि सरकार ने सभी नागरिकों को वास्तविक आय का खुलासा करते हुए पूरा कर भुगतान करने का आग्रह किया है। हालांकि आयकर विभाग उन लोगों को पकड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा जो बड़े लेन-देन तो करते हैं लेकिन आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करते।

सीबीडीटी ने आयकर रिटर्न दाखिल न करने वालों का एक ऑनलाइन डाटाबेस भी तैयार किया है। जब भी पैन धारक जिसने आयकर रिटर्न दाखिल नहीं किया है और उसका नाम ऐसे लोगों की सूची में है तो वह ईफाइलिंग से लॉगिन कर देख सकता है। वह ऑनलाइन ही इस संबंध में विभाग के पास अपना जवाब भी दाखिल कर सकता है।

Leave a Reply