भोपाल : साध्वी और दिग्विजय आमने-सामने, 61.71% वोटिंग दर्ज

भोपाल : साध्वी और दिग्विजय आमने-सामने, 61.71% वोटिंग दर्ज

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल

मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट पर रविवार को वोट डाले गए. इस सीट पर सुबह 11 बजे तक 26.15% फीसदी, दोपहर 1 बजे तक 40.69 फीसदी, 3 बजे तक 52.02 फीसदी और शाम 6 बजे तक 61.71 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई.7 चरणों में होने जा रहे 2019 के लोकसभा चुनावों के छठवें चरण में 7 राज्यों की 59 सीटों को शामिल किया गया है. इसमें मध्यप्रदेश की 8 लोकसभा सीटों पर सुबह 9 बजे तक औसत मतदान 10.59 प्रतिशत, 11 बजे तक 26.60 प्रतिशत, दोपहर 1 बजे तक 41.69 प्रतिशत और 3 बजे तक 50.78 प्रतिशत और शाम 6 बजे तक 60.12 फीसदी दर्ज किया गया.

2019 के आम चुनाव में भोपाल संसदीय सीट से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों में दिग्विजय सिंह(कांग्रेस), साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर(भारतीय जनता पार्टी), माधौ सिंह अहिरवार(बहुजन समाज पार्टी), अब्दुल ताहिर अंसारी(स्वणिम भारत इंकलाब), मो. इकबाल खान(स्मार्ट इंडियंस पार्टी), कमलेश दांगी ठाकुर(हिंदुस्तान निर्माण दल), गौतम नागदावने(अंबेडकराइट पार्टी ऑफ इंडिया), पीयूष जैन(राइट टू रिकॉल पार्टी), प्रभा भारती(जय लोक पार्टी), प्रमोद भोजवानी(सनातन संस्कृत‍ि रक्षा दल), जेसी बराई(सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया), बल राम सिंह तोमर(भारतीय शक्ति चेतना पार्टी), भाऊराव विठोबा(भारत प्रभात पार्टी), राजकुमार शाक्य(जन अधिकार पार्टी), राजेश कीर(बहुजन मुक्ति पार्टी), राम सुशील शर्मा(समग्र उत्थान पार्टी), लता सूर्यवंशी(समता विकास पार्टी), वीणा घानेकर(सपाक्स पार्टी) और हेमलता पाठक(सर्वधर्म पार्टी) हैं.

वहीं निर्दलीय उम्मीदवारों में मोहम्मद अतीक, आलोक कुमार, कमलेश नामदेव, देवेंद्र प्रकाश मिश्रा, प्रवीणा ठाकुर, प्रियंका खरे, महेंद्र कटियार, महेंद्र कुमार, मुकेश कुमार गुप्ता, देशमुख रियासुद्दीन और सुनील कुमार डोडेजा शामिल हैं. दिसंबर 1984 में गैस त्रासदी के बाद से कांग्रेस इस सीट पर लोकसभा का चुनाव नहीं जीत पाई है. गैस त्रासदी के एक महीने पहले हुए लोकसभा चुनाव में इस सीट से कांग्रेस के केएन प्रधान विजयी हुए थे. इस सीट पर फिलहाल बीजेपी का ही कब्जा है. बीजेपी के अलोक संजर यहां के सांसद हैं. पिछले 8 चुनावों में यहां पर सिर्फ बीजेपी को ही जीत मिली है.

2014 का जनादेश
2014 के लोकसभा चुनाव में आलोक संजर ने कांग्रेस के प्रकाश मंगीलाल शर्मा को पराजित किया था. आलोक संजर को इस सीट में 7,14,178(63.19) फीसदी वोट मिले थे. वहीं प्रकाश मंगीलाल को 3,43,482(30.39 फीसदी) वोट मिले थे. आलोक ससंजर ने प्रकाश मंगीलाल को 3,70,696 वोटों से हराया था. वहीं आम आदमी पार्टी इस चुनाव में तीसरे स्थान पर रही थी.

2009 का जनादेश
इससे पहले 2009 के चुनाव में बीजपी के कैलाश जोशी ने जीत हासिल की थी. उन्होंने कांग्रेस के सुरेंद्र सिंह ठाकुर को हराया था. इस चुनाव में कैलाश जोशी को 3,35,678 वोट मिले थे. वहीं सुरेंद्र सिंह ठाकुर को 2,70,521 वोट मिले थे. कैलाश जोशी करीब 65 हजार वोटों से विजयी रहे थे.

सामाजिक ताना-बाना
2011 की जनगणना के मुताबिक भोपाल की जनसंख्या 26,79,574 है. यहां की 23.71 फीसदी आबादी ग्रमीण क्षेत्र में रहती है, जबकि 76.29 फीसदी शहरी इलाके में रहती है.भोपाल की 15.38 फीसदी जनसंख्या अनुसूचित जाति की है और 2.79 फीसदी अनुसूचित जनजाति की है.चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक, 2014 के चुनाव में यहां पर 19,56,936 मतदाता थे. इसमें से 9,17,932 महिला मतदाता और 10,39,004 पुरूष मतदाता थे. भोपाल में 2014 के लोकसभा चुनाव में 57.75 फीसदी मतदान हुआ था.

भोपाल लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं. बेरसिया, भोपाल दक्षिण-पश्चिम, हुजूर, भोपाल उत्तर, भोपाल मध्य, सिहौर, नरेला और गोविंदपुरा यहां की विधानसभा सीटें हैं. 8 विधानसभा सीटों में से 5 पर बीजेपी और 3 पर कांग्रेस का कब्जा है.बता दें कि 2019 के आम चुनावों के लिए चुनाव आयोग ने देश की 543 सीटों पर 7 चरणों में चुनाव संपन्न कराए जाने का फैसला लिया है. छठवें चरण के लिए नोटिफिकेशन के लिए 16 अप्रैल और नामांकन के लिए 23 अप्रैल की तारीख तय की गई थी. 24 अप्रैल को स्क्रूटनी के बाद 12 मई को वोटिंग की तारीख तय की गई. सातों चरणों के मतदान के नतीजे 23 मई को आएंगे.

Leave a Reply