द्वारका के पास बीएसएफ का विमान क्रैश, 10 की मौत

द्वारका के पास बीएसएफ का विमान क्रैश, 10 की मौत

- in राष्ट्रीय
0

नई दिल्ली  

plaदो पायलटों और आठ तकनीशियनों को लेकर रांची जा रहा बीएसएफ का छोटा सुपरकिंग विमान मंगलवार सुबह उड़ान भरने के कुछ ही समय बाद द्वारका के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसके कारण इसमें सवार सभी लोगों की मौत हो गई। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने घटनास्थल पर जाकर मुआयना किया और स्थिति की समीक्षा की।

बीएसएफ और उड्डयन सूत्रों ने शुरू में चार लोगों के मारे जाने की जानकारी देते हुए कहा कि विमान दुर्घटना दिल्ली में द्वारका के पास बागडोला गांव में हुई और इसमें किसी के जीवित बचे होने की संभावना बहुत कम है। हालांकि, बाद में नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री महेश शर्मा ने पुष्टि की कि विमान में सवार सभी 10 लोगों की मौत हो गई है।

सूत्रों ने कहा कि दुर्घटना सुबह नौ बजकर 50 मिनट पर उस समय हुई। विमान किसी तकनीकी खामी के चलते उड़ान भरने के महज पांच मिनट बाद ही कलाबाजियां खाता नीचे आया और एयरपोर्ट की दीवार तोड़कर एक बड़े सेप्टिक टैंक में जा गिरा। आशंका है कि सेप्टिक टैंक के आसपास कुछ मजदूर भी हादसे की चपेट में आए हों, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

विमान में बीएसएफ की इंजीनियरिंग टीम के 7 अधिकारी थे, जो झारखंड के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में संबंधित एक रणनीति के तहत जा रहे थे। हादसे की खबर मिलते ही गृह मंत्री राजनाथ सिंह समेत बीएसएफ व अन्य सुरक्षा एजेंसियों के आलाकमान घटनास्थल के लिए रवाना हो गए। मौके पर दमकल की 15 गाड़ियां व अन्य एजेंसियां बचाव कार्य में लगी थीं, लेकिन कोई नहीं बचा।

दिल्ली के चीफ फायर ऑफिसर एके शर्मा ने बताया कि विमान उड़ाने भरने के चंद मिनटों के भीतर नीचे आया और एयरपोर्ट की दीवार से टकराकर क्रैश हो गया। उन्हें मौके से बताया गया कि जहां विमान गिरा, वहां बड़ा सेप्टिक टैंक बना है। विमान उसी में गिरा। एक प्रत्यक्षदर्शी सूरज ने बताया, ‘हमने विमान को चक्कर खाते हुए नीचे आते देखा, जो दीवार के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वहां काम चल रहा था। मैं एक शव देख पाया। वहां काम कर रहा एक मजदूर भी घायल हो गया।’

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने दुर्घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं। राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस विमान दुर्घटना की जानकारी दे दी है। विमान में सवार 10 लोगों में एक पायलट (एसआईबी में सेकंड-इन-कमांड रैंक अधिकारी), को-पायलय (डिप्टी कमांडेंट), छह तकनीशियन, एक इंजीनियर और चालक दल का एक सदस्य शामिल था।

Leave a Reply