ट्रंप की वजह से चीनी महिला ने गंवाए 5000Cr

ट्रंप की वजह से चीनी महिला ने गंवाए 5000Cr

- in अंतरराष्ट्रीय
0

पेइचिंग

ट्रेड वॉर की वजह से चीन की सबसे अमीर महिला झू क्विनफे (48) की संपत्ति इस साल 66% घट गई। वह लेंस टेक्नॉलजी की मालकिन हैं। मार्च में उनकी नेटवर्थ 10 अरब डॉलर थी, जो अब घटकर 3.4 अरब डॉलर रह गई है। ब्लूमबर्ग बिलनेयर इंडेक्स के आंकड़ों के मुताबिक, चीन के अमीरों में इस साल सबसे ज्यादा नुकसान क्विनफे को हुआ। उनकी कंपनी का शेयर जनवरी से अब तक 62% लुढ़क चुका है। लेन्स टेक्नोलॉजी टेक कंपनी ऐपल और कार निर्माता कंपनी टेस्ला को ग्लास स्क्रीन सप्लाई करती है

बता दें कि चीन की कई कंपनियां अमेरिकी टेक कंपनियों को कच्चा माल और कलपुर्जे मुहैया कराती हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने पिछले महीने ही कहा था कि वह चीनी सामान पर 267 अरब डॉलर का अतिरिक्त टैरिफ लगाने की तैयारी में हैं। टैरिफ और निर्माण प्लांट को शिफ्ट किए जाने पर लागत बढ़ेगी। इसी के बाद से चीन के कई उद्योगपतियों को खासा नुकसान हुआ है। अमेरिका-चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर के चलते अलीबाबा ग्रुप के संस्थापक जैक मा और टेनशेट हॉल्डिंग्स के सीईओ मा हुतेंग ने भी नुकसान झेला है। दुनिया के 500 सबसे अमीर लोगों में शामिल इन चीनी कारोबारियों को इस साल अभी तक कुल 86 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।

फैक्ट्री में काम करने के लिए छोड़ दी थी हाई स्कूल की पढ़ाई
झू का जन्म 1970 में चीन के जिआंगजिआंग में हुआ था। 1986 में वह हाईस्कूल की पढ़ाई छोड़ घड़ी के लेंस बनाने वाली फैक्ट्री में काम करने लगी थीं। 1993 तक 2500 डॉलर की बचत कर उन्होंने फैमिली वॉच लेंस वर्कशॉप नाम से अपनी कंपनी शुरू कर दी। साल 2001 में उन्होंने मोबाइल फोन की स्क्रीन बनाना शुरू किया। दो साल बाद लेन्स टेक्नोलॉजी कंपनी बना दी। फोर्ब्स मैगजीन ने भी माना है कि झू अपने दम पर अमीर बनने वाली दुनिया की टॉप महिलाओं में शुमार हैं।

Leave a Reply