दिल्ली : नशे में 130 की स्पीड से टक्कर, 2 छात्रों की मौत

दिल्ली : नशे में 130 की स्पीड से टक्कर, 2 छात्रों की मौत

- in राष्ट्रीय
0

नई दिल्ली

रविवार तड़के एक बार फिर दिल्ली की सड़क पर नशे और रफ्तार का कॉकटेल जानलेवा साबित हुआ। मुखर्जी नगर इलाके में शनिवार देर रात हडसन लेन में हुए कार हादसे में 2 छात्रों की मौत हो गई। इनकी पहचान रितेश दहिया और सिद्धार्थ के रूप में हुई। रितेश डीयू के स्टूडेंट थे। कार ड्राइव कर रही दीक्षा समेत 3 छात्राएं घायल हैं, जो एमिटी यूनिवर्सिटी में लॉ की स्टूडेंट हैं। नशे की हालत में आई-20 कार चला रही एमिटी यूनिवर्सिटी की लॉ स्टूडेंट दीक्षा से जब रफ्तार पर कंट्रोल नहीं हुआ तो डिवाइडर को टक्कर मारते हुए कार सड़क के बीचोंबीच लगे खंभे से टकराकर पलट गई। कार की रफ्तार कितनी रही होगी, इसका अंदाजा इसी से लग रहा है कि कार के परखच्चे उड़ गए।

130 किलोमीटर प्रति घंटे थी कार की रफ्तार
मेडिकल रिपोर्ट में सभी कार सवारों में अल्कोहल मिला है। पुलिस ने बताया कि एमिटी यूनिवर्सिटी में फेस्ट के बाद रात में ये फ्रेंड्स आउटिंग को निकले थे। पहले कार रितेश चला रहे थे, बाद में दीक्षा ड्राइव करने लगीं। तभी कार हडसन लेन पर डिवाइडर तोड़ते हुए बिजली के पोल से टकराकर पलट गई। उस समय स्पीड 130 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा थी।

डीसीपी असलम खान के मुताबिक, मरने वाले छात्रों की पहचान पीतमपुरा निवासी सिद्धार्थ (20) और सोनीपत हरियाणा निवासी रितेश दहिया (21) के रूप में हुई है। वहीं घायलों की पहचान प्रशांत विहार दिल्ली निवासी दीक्षा दादू, मुंबई के ठाणे निवासी ज्योसिता मोहंती और मेरठ कैंट निवासी राशि शर्मा के रूप में हुई है। सिद्धार्थ जनकपुरी स्थित महाराजा सूरजमल शिक्षा संस्थान से ग्रैजुएशन कर रहे थे। वहीं, रितेश धौलाकुंआ स्थित वेंकटेश्वर कॉलेज में बीएससी सेंकड ईयर के स्टूडेंट थे। जबकि घायल हुई तीनों छात्राएं एमिटी यूनिवर्सिटी से लॉ की पढ़ाई कर रही हैं। घायलों में एक छात्रा को ज्यादा चोटें आईं। जबकि दो छात्राओं को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

सभी स्टूडेंट्स ने पी रखी थी शराब
हादसे की जांच में जुटी पुलिस के सामने कई सवाल हैं। मसलन, फेस्ट के जोश में क्या नशे में सभी होश खो बैठे थे? कार में मिली शराब की बोतल, गिलास की वजह से सवाल उभर रहे हैं। साथ ही हादसे का शिकार हुए कार सवार स्टूडेंट्स के मेडिकल जांच से भी यही पता चला है। अभी तक की जांच में पता चला है कि दीक्षा के पास सिर्फ लर्निंग लाइसेंस था, जिसकी मियाद खत्म हो चुकी थी।

डिवाइडर से जोरदार टक्कर के बाद हुआ तेज धमाका
जोरदार हादसे के साथ ही तेज धमाका हुआ और आसपास के लोग सहम गए। जब बाहर देखा तो परखच्चे उड़ चुकी कार थी और उसमें से चीख पुकार आ रही थी। हादसे के बाद सबसे पहले पहुंचे चश्मदीद ने पुलिस को बताया कि टक्कर लगने के बाद कार के पलटते ही एक लड़की कार से बाहर आकर गिरी। वहीं अन्य लोग कार में फंसे रह गए। अंदेशा है कि सिद्धार्थ और रितेश के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं थे। डॉक्टरों ने बताया कि दोनों के सिर में गंभीर चोट लगी थी। जिसकी वजह से उनकी मौत हुई है। पुलिस को आशंका है कि दोनों दरवाजे की तरफ बैठे होंगे। सीट बेल्ट लगाए हुए नहीं थे। टकराने से उनके सिर में चोट लगी होगी। अंदरूनी चोट लगने की वजह से उनकी मौत हुई है।

2 परिवारों के बुझ गए चिराग
इस हादसे में दो परिवारों के चिराग बुझ गए। खासकर हादसे में मारे गए सिद्धार्थ और रितेश के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। पीतमपुरा में रहने वाले सिद्धार्थ के परिवार वाले शव का पोस्टमॉर्टम करवाने के बाद शव को पीतमपुरा स्थित घर नहीं ले गए। आस पास के लोगों ने बताया कि उन्हें सिर्फ यह पता है कि सिद्धार्थ की सड़क हादसे में मौत हो गई है, लेकिन किसी ने शव को घर पर आते हुए नहीं देखा। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पीतमपुरा निवासी सिद्धार्थ और प्रशांत विहार निवासी दीक्षा कुछ ही किलोमीटर के फासले पर रहते हैं। दोनों साथ पढ़ते हैं और दोस्त हैं। इसी के जरिए ही सभी आपस में दोस्त थे। दीक्षा के पिता कारोबारी हैं। हादसे के वक्त दीक्षा के घर पर कोई मौजूद नहीं था। उनके पड़ोस में रहने वालों ने बताया कि दीक्षा के परिजन किसी काम से दिल्ली से बाहर गए हुए हैं।

कार में मिलीं शराब की बोतलें
पुलिस की मानें तो हादसे के समय पांचों कार सवार शराब के नशे में थे। जिस वक्त पुलिस हादसे की जगह पर पहुंची, काफी मशक्कत से कार में फंसे लोगों को बाहर निकालकर उन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टरों ने दोनों छात्रों को मृत घोषित कर दिया। राशि का कॉलर बोन फ्रैक्चर हुआ है और उसकी हालत नाजुक है। वहीं मामूली रूप से घायल दीक्षा और ज्योसिता को प्राथमिक इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। मेडिकल जांच में कार में सवार सभी छात्रों के शराब पीने की पुष्टि हुई है। छानबीन के दौरान कार से शराब की बोतलें मिली हैं। दोनों छात्रों का पोस्टमॉर्टम कराकर परिजनों को शव सौंपकर मामले की जांच में जुटी है।

यूनिवर्सिटी में फेस्ट के बाद जा रहे थे मुरथल
अभी तक की पूछताछ में पता चला कि ये सभी लोग एमिटी यूनिवर्सिटी में फेस्ट के बाद रात करीब 11 बजे आउटिंग के लिए निकले। रास्ते में मुरथल जाने का प्लान बना। लेकिन बाद में प्लान चेंज हो गया। ये देर रात तक कार में घूमते रहे और शराब पीते रहे। दुर्घटना से पहले तक कार रितेश चला रहे थे। लेकिन घटना से कुछ समय पहले रितेश कार रोककर कुछ सामान खरीदने गए, इसी दौरान ड्राइविंग सीट पर दीक्षा बैठ गई। सामान लेकर आने के बाद रितेश ने दीक्षा से ड्राइविंग सीट से हटने को कहा, लेकिन दीक्षा ने हटने से मना कर दिया। इसके कुछ देर बाद ही यह घटना हो गई।

Leave a Reply