आतंकवाद से जूझ रहे कश्मीर में मोर्चे पर धोनी

आतंकवाद से जूझ रहे कश्मीर में मोर्चे पर धोनी

श्रीनगर

टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल (मानद) महेंद्र सिंह धोनी आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर में बुधवार को सेना के साथ जुड़ गए जहां वह अन्य सैनिकों की तरह गश्त, गार्ड ड्यूटी और बाकी काम करेंगे। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान धोनी 15 अगस्त तक 106 टीए बटालियन (पैरा) के साथ रहेंगे और सैनिकों की तरह काम करेंगे। सेना के अधिकारियों ने कहा, ‘लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी आज (बुधवार) यहां पहुंच गए और यूनिट से जुड़ गए।’ वह यूनिट आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर में विक्टर फोर्स के साथ जुड़ेंगे।

विश्व कप विजेता कप्तान 38 बरस के धोनी के सेना को दो सप्ताह सेवाएं देने के अनुरोध को पिछले सप्ताह सेना मुख्यालय ने मंजूरी दी थी। धोनी को 2011 में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक मिली थी। वह क्वॉलिफाइड पैराट्रूपर भी है और पांच पैराशूट ट्रेनिंग जंप कर चुके हैं। बताया जा रहा है कि धोनी कुल 19 किलो वजन लेकर पट्रोलिंग करेंगे। इसमें उनकी वर्दी, एके 47 और सामान का वजन शामिल है।

धोनी देश के तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी नवाजे जा चुके हैं। विश्व कप में भारतीय टीम के सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद धोनी के संन्यास की अटकलें लगाई जा रही थी। धोनी ने दो महीने पैराशूट रेजिमेंट को देने के लिए बोर्ड से ब्रेक मांगा था। वह भारतीय टीम के वेस्टइंडीज दौरे का हिस्सा नहीं है और उनकी जगह ऋषभ पंत को मौका दिया गया है।

3 दिन बुनियादी ट्रेनिंग
सूत्रों के मुताबिक, धोनी को शुरू के 3 दिन बुनियादी ट्रेनिंग दी जाएगी, जिसमें फौज के बारे में बताया जाएगा और फायरिंग सिखाई जाएगी। धोनी ने पहले ही बता दिया था कि वह वेस्ट इंडीज दौरे पर टीम के साथ नहीं जाएंगे। सैन्य ट्रेनिंग में शामिल होने के लिए उन्होंने सेनाध्यक्ष विपिन रावत से अनुमति भी ली थी।

Leave a Reply