निर्वाचन अधिकारी ने खट्टर को नहीं दी सरकारी रेस्ट हाउस में ठहरने की अनुमति

निर्वाचन अधिकारी ने खट्टर को नहीं दी सरकारी रेस्ट हाउस में ठहरने की अनुमति

चंडीगढ़

चुनाव प्रचार के बाद शुक्रवार को चंडीगढ़ वापस लौट रहे हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर को देर रात मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आचार संहिता का हवाला देते हुए सरकारी रेस्ट हाउस में ठहरने की अनुमति नहीं दी। जींद के जिला निर्वाचन अधिकारी आदित्य दहिया ने कहा कि आचार संहिता के मुताबिक शाम 5 बजे तक चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद किसी गैर-मतदाता को क्षेत्र में रुकने की इजाजत नहीं दी जा सकती। हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने भी दहिया की बात का समर्थन कर सीएम को नरवाना छोड़ने के लिए कह दिया। बाद में कोर्ट के आदेश के बाद सीएम को रेस्ट हाउस में ठहरने की अनुमति मिल सकी।

मौसम खराब होने की वजह से उड़ान नहीं भर सका हेलिकॉप्टर
गौरतलब है कि मंडी के डबवाली में एक कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद चंडीगढ़ वापस लौट रहे सीएम खट्टर का हेलिकॉप्टर मौसम खराब होने की वजह से उड़ान नहीं भर सका था। इस वजह से उन्होंने सड़क मार्ग से जाने का फैसला किया था। रास्ता काफी लंबा होने के कारण उन्होंने रात में नरवाना के सरकारी रेस्ट हाउस में ठहरने का फैसला किया लेकिन इलाके के निर्वाचन अधिकारी से अनुमति न मिलने के बाद खट्टर को कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा। बाद में हाई कोर्ट से आदेश मिलने के बाद सरकारी गेस्ट हाउस में उनके रुकने की व्यवस्था की गई।

चुनाव आयोग को भेजी चिट्ठी, नहीं मिली राहत
हाई कोर्ट में सरकार की ओर से किए गए दावे के अनुसार, खट्टर ने रास्ते में पड़ने वाले नरवाना सरकारी रेस्ट हाउस में रुकने की इच्छा जताई। इसके लिए एडीसी रजनीश गर्ग को बताया गया तो उन्होंने जींद के जिला निर्वाचन अधिकारी और उपायुक्त आदित्य दहिया को जानकारी दी। आदित्य ने इसकी इजाजत नहीं दी। उन्होंने कहा कि शाम 5 बजे चुनाव प्रचार खत्म हो चुका है और ऐसे में कोई भी ऐसा व्यक्ति जो उस क्षेत्र का मतदाता नहीं है और चुनाव को प्रभावित कर सकता है, उसे उक्त क्षेत्र में रुकने की इजाजत नहीं मिल सकती। इसके तुंरत बाद हरियाणा के मुख्य चुनाव अधिकारी को भी इस सम्बंध में पूछा गया तो उन्होंने भी आचार संहिता का हवाला देते हुए खट्टर को नरवाना छोडने को कहा।

आधे घंटे की सुनवाई के बाद कोर्ट ने दिया ठहराने का आदेश
मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को चिट्ठी भेजी। पूरा मामला बताते हुए लिखा गया कि डबवाली से चंडीगढ़ का रास्ता 340 किलोमीटर है। यह मुख्यमंत्री के लिए असुविधाजनक है लेकिन उन्हें वहां से भी राहत नहीं मिली। तब रात करीब साढ़े 8 बजे सरकार हाई कोर्ट में गई। सुनवाई के बाद ही खट्टर को नरवाना में ठहरने की अनुमति मिल पाई। 30 मिनट सुनवाई के बाद कोर्ट ने मुख्यमंत्री को रात को नरवाना में रेस्ट हाउस में ठहराने के आदेश दिए।

Leave a Reply