मप्र / प्रदेश में आगामी 48 घंटे में 19 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी; दक्षिण-पश्चिम सिस्टम से होगी बारिश

मप्र / प्रदेश में आगामी 48 घंटे में 19 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी; दक्षिण-पश्चिम सिस्टम से होगी बारिश

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल.

दक्षिण पश्चिम मानसून देश के कुछ और भागों में आगे बढ़ गया है, इसमें पूर्वी राजस्थान के कुछ हिस्से, मध्य प्रदेश का ज्यादातर हिस्सों के साथ ही छत्तीसगढ़ के बाकी बच्चे हिस्से में पहुंच गया है। इधर, मप्र में बीते 24 घंटे से अच्छी बारिश हो रही है। भोपाल में 7.7 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। वहीं सबसे ज्यादा बारिश सिवनी में दर्ज की गई 33.4 मिमी दर्ज की गई है।

ये कारक कराएंगे प्रदेश में बारिश 

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, मध्य प्रदेश के मौसम को प्रभावित करने वाले कारक कम दबाव का क्षेत्र उत्तर पूर्व झारखंड एवं उससे लगे उड़ीसा एवं पश्चिम बंगाल के गंगा का क्षेत्र पर बना हुआ है।

  1. पहला उत्तरी हवा में चक्रवाती हवा का घेरा 76 किलोमीटर की ऊंचाई तक बना है जो दक्षिण की ओर ऊंचाई के साथ झुका है।
  2. दूसरा दक्षिणी गुजरात एवं उससे आसपास हवा के ऊपरी भाग में 2.1 से 5.8 किलोमीटर के बीच चक्रवाती हवा का घेरा बना है।
  3. तीसरा मध्य उत्तर प्रदेश के दक्षिण भाग में 1.5 किलोमीटर तक हवा के ऊपरी भाग में चक्रवाती हवा का घेरा बना है।
  4. चौथा दक्षिणी पंजाब से बंगाल की खाड़ी तक समुद्री सतह के ऊपर एक ट्रफ लाइन जा रही है जो हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश से होकर गुजर रही है।

19 जिलों में आगामी 48 घंटों भारी बारिश की चेतावनी 
मौसम केंद्र ने आगामी 48 घंटे में प्रदेश के 19 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसमें अनूपपुर, डिंडोरी, उमरिया, रीवा, सतना, जबलपुर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, सागर, दमोह, सीहोर, हरदा, बैतूल, बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन और बड़वानी जिले शामिल हैं।

मैप जारी कर बताया देश के किन भागों में पहुंचा मानसून 
मौसम केंद्र ने मानसून का मैप जारी कर बताया है कि मानसून उत्तर प्रदेश के कुछ और भाग, उत्तराखंड के अधिकांश भाग हिमाचल प्रदेश के कुछ भाग एवं जम्मू कश्मीर के कुछ भाग शामिल है। दक्षिण पश्चिम मानसून की उत्तरी सीमा 22 डिग्री उत्तरी अक्षांश 60 डिग्री पूर्वी देशांतर 22 डिग्री उत्तरी अक्षांश 65 डिग्री पूर्वी देशांतर द्वारिका अहमदाबाद राजगढ़ खजुराहो लखनऊ नजीबाबाद मंडी से 33 डिग्री उत्तरी अक्षांश 79 डिग्री पूर्वी देशांतर से होकर जा रही है।

आगामी दो-तीन दिनों में उत्तरी अरब सागर गुजरात मध्य प्रदेश राजस्थान के कुछ भाग हिमाचल प्रदेश उत्तर प्रदेश हरियाणा का कुछ भाग चंडीगढ़ दिल्ली और उत्तराखंड के शेष भाग में दक्षिण पश्चिम मानसून आगे बढ़ने की संभावना है।

मंगलवार को प्रदेश में बारिश
मौसम विभाग के अनुसार, 24 घंटे में भोपाल में 7.7 मिमी बारिश दर्ज की गई। प्रदेश में सबसे ज्यादा सिवनी में 33.4 मिमी और सबसे कम जबलपुर में 0.2 मिमी हुई है।

शहर बारिश (मिमी)
भोपाल 7.7
जबलपुर 0.2
खजुराहो 3.8
सतना 31.8
रीवा 3.2
सीधी 17.6
सागर 0.4
पचमढ़ी 6.0
बैतूल 1.2
होशंगाबाद 21.0
नरसिंहपुर 32.0
सिवनी 33.4
उमरिया  24.4

Leave a Reply