कमलनाथ की ‘यूथ ब्रिगेड’, दिग्गी के बेटे भी मंत्री

कमलनाथ की ‘यूथ ब्रिगेड’, दिग्गी के बेटे भी मंत्री

भोपाल

मध्य प्रदेश में जीत के बाद कांग्रेस ने भले ही 47 साल के ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री नहीं बनाया हो लेकिन कमलनाथ की सरकार के 28 मंत्रियों में युवा विधायकों की अच्छी-खासी संख्या है। कमलनाथ सरकार के 28 मंत्रियों को मंगलवार को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। इन 28 चेहरों में से तकरीबन एक तिहाई सदस्य ऐसे हैं, जिनकी उम्र 40 से 50 के बीच है।। खास बात यह है कि दो बार राज्य के सीएम रहे दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह को भी मंत्री बनाया गया है।

समर्थक विधायकों को मंत्री बनाने की जोर-आजमाइश
कमलनाथ सरकार के 28 मंत्रियों का नाम तय करना भी आसान काम नहीं रहा। मंत्रियों के शपथग्रहण से पहले देर रात तक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, मुख्यमंत्री कमलनाथ और उप मुख्यमंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया में कैबिनेट के गठन को लेकर मंथन चलता रहा। सभी अपने समर्थक विधायकों को मंत्री बनाने की कोशिश में लगे थे। पिछले साल दिसंबर में राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद से ही कांग्रेस में युवाओं को प्राथमिकता देने के कयास लगाए जा रहे थे।

कमलनाथ सरकार में 50 साल से कम उम्र के 9 मंत्री
राज्य कैबिनेट में तकरीबन 9 मंत्री ऐसे हैं जिनकी उम्र 40 से 50 साल के बीच है। इनमें एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह भी शामिल हैं। जयवर्धन सिंह की उम्र 32 साल है। वह कमलनाथ सरकार के सबसे कम उम्र के मंत्री हैं। जयवर्धन सिंह के अलावा सुरेंद्र सिंह की उम्र 41 साल, लगातार दूसरी बार विधायक बने सचिन यादव की उम्र 36 साल, प्रियव्रत सिंह की 40 साल, इमरती देवी की 43 साल, उमंग सिंघार की 44 साल और जीतू पटवारी की आयु 45 साल है। वहीं 48 साल के प्रद्युम्न सिंह तोमर और 50 साल के सुखदेव पासे को भी मंत्री बनाया गया है।

युवाओं को तरजीह
हालांकि, पार्टी के दिग्गज और युवा नेता सिंधिया को मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार होने के बाद भी मुख्यमंत्री न बनाए जाने पर इन अनुमानों को कड़ा झटका लगा था लेकिन कमलनाथ के नए मंत्रिमंडल में युवाओं की संख्या देखकर लगता है कि कांग्रेस युवाओं को हाशिए पर रखने के मूड में नहीं है। मध्य प्रदेश के नए मंत्रिमंडल में युवाओं को तरजीह दी गई है।

टीम कमलनाथ में सिर्फ 2 महिला मंत्री
शिवराज सिंह चौहान की पिछली सरकार में पांच महिलाओं को मंत्री बनाया गया था। इनमें कुसुम महदेले, अर्चना चिटनिस, यशोधरा राजे सिंधिया, माया सिंह और ललिता यादव का नाम शामिल था। हालांकि इस बार कमलनाथ के मंत्रिमंडल में पूर्ववर्ती शिवराज सरकार के मुकाबले महिलाओं की नुमाइंदगी कम है। भोपाल में समारोह के दौरान कमलनाथ मंत्रिमंडल में दो महिलाओं को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है। विजयलक्ष्मी साधो और इमरती देवी को इस बार मौका दिया गया है।

Leave a Reply