करुण की ट्रिपल सेंचुरी, भारत ने टेस्ट में बनाया अपना सबसे बड़ा स्कोर

करुण की ट्रिपल सेंचुरी, भारत ने टेस्ट में बनाया अपना सबसे बड़ा स्कोर

- in खेल
0

चेन्नै

karun-jpg-300x224करुण नायर ने टेस्ट क्रिकेट में अपनी पहली सेंचुरी को ट्रिपल सेंचुरी (नॉटआउट 303 रन) में बदलकर रेकॉर्ड पारी खेली और भारत ने अपना अब तक का अपना सबसे बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया। करुण की ट्रिपल सेंचुरी के बाद कप्तान विराट कोहली ने 7 विकेट पर 759 रन के स्कोर पर पारी समाप्त घोषित कर दी। इस तरह भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच में पहली पारी में 282 रन की बढ़त हासिल की।

अपनी पहली पारी में 477 रन बनाने वाले इंग्लैंड को चौथे दिन पांच ओवर खेलने का मौका मिला, जिसमें उसने बिना किसी नुकसान के 12 रन बनाए हैं। वह अब भी भारत से 270 रन पीछे है और कल पांचवें दिन उसके बल्लेबाजों को भारतीय स्पिनरों की कड़ी चुनौती का सामना करना होगा। स्टंप उखड़ने के समय कप्तान एलिस्टेयर कुक ३ और कीटन जेनिंग्स नौ रन पर खेल रहे थे। करुण की इस ऐतिहासिक पारी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर बधाई दी है। मोदी ने बधाई देते हुए कहा, ‘हम सभी आपकी इस शानदार उपलब्धि से गदगद हैं।’

ट्रिपल सेंचुरी मारने वाले दूसरे भारतीय
25 वर्षीय नायर ने रेकॉर्डों से भरी अपनी पारी में 381 गेंदें खेली और 32 चौके और चार छक्के लगाए। वह वीरेंद्र सहवाग के बाद टेस्ट मैचों में ट्रिपल सेंचुरी मारने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं। सहवाग ने दो ट्रिपल सेंचुरी (319 और 309 ) लगाए हैं। भारतीय पारी में करुण नायर के कर्नाटक के साथी ओपनर बल्लेबाज लोकेश राहुल के 199 रन भी शामिल हैं।

भारत का सबसे बड़ा स्कोर
इससे पहले भारत का सर्वोच्च स्कोर का रेकॉर्ड नौ विकेट पर 726 रन था, जो उसने श्रीलंका के खिलाफ 2009 में मुंबई में बनाया था। यह इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी टीम का सबसे बड़ा स्कोर है। भारत ने वेस्टइंडीज का रेकॉर्ड तोड़ा, जिसने 2004 में सेंट जोन्स में पांच विकेट पर 751 रन बनाये थे। अपनी रेकॉर्ड पारी के दौरान नायर ने रविचंद्रन अश्विन (67) के साथ छठे विकेट के लिए 181 और फिर रविंद्र जडेजा (51) के साथ सातवें विकेट के लिए 138 रन की दो बड़ीं साझेदारियां कीं।

दूसरी बार किया यह कारनामा
करुण ने लेग स्पिनर आदिल रशीद की गेंद पॉइंट से चार रन के लिए भेजकर अपना तिहरा शतक पूरा किया और फिर एमए चिदंबरम स्टेडियम में मौजूद दर्शकों और अपने साथियों का आभार व्यक्त किया। नायर का यह फर्स्ट क्लास मैचों में दूसरा तिहरा शतक है। उन्होंने पिछले साल मार्च में कर्नाटक की तरफ से तमिलनाडु के खिलाफ मुंबई में रणजी ट्राफी फाइनल में 328 रन बनाए थे। यही नहीं, वह टेस्ट मैचों में अपनी पहली सेंचुरी को ट्रिपल सेंचुरी में तब्दील करने वाले दुनिया के तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं। उनसे पहले वेस्टइंडीज के सर सोबर्स (नाबाद 365) और ऑस्ट्रेलिया के बॉब सिंपसन (311) ने यह कारनामा दिखाया था।

भाग्य ने भी दिया साथ
नायर ने सुबह 71 रन से अपनी पारी आगे बढ़ाई थी। उन्होंने पहले सेशन में बेन स्टोक्स की गेंद पर चौका जड़कर सेंचुरी बनाई और फिर अधिक तेजी दिखाई। चाय के विश्राम के बाद उन्होंने जेनिंग्स की गेंद पर चौका लगाकर अपनी डबल सेंचुरी पूरी की और फिर अगले 100 रन केवल 75 गेंदों पर पूरे किए। उन्होंने 250 रन के पार पहुंचने के बाद अधिक तेजी दिखाई तथा मोईन अली और रशीद पर छक्के भी लगाए। पिच से स्पिनरों को बहुत अधिक टर्न नहीं मिल रहा है और नायर ने इसका फायदा उठाया।

इस बीच भाग्य ने भी उनका साथ दिया। कल 34 रन के निजी योग पर कुक ने उन्हें जीवनदान दिया था। आज भी दो बार वह आउट होने से बचे। पहले अवसर पर जब वह 216 रन पर थे, तब जैक बॉल की गेंद पर जो रूट ने स्लिप में उनका कैच छोड़ा। 246 रन के निजी योग पर जोनी बेयरस्टॉ उन्हें स्टंप करने से चूक गए थे। इन कुछ अवसरों को छोड़कर नायर की पारी लाजवाब रही और उन्होंने इंग्लैंड के तेज और स्पिन किसी भी तरह के गेंदबाजों को खुद पर हावी नहीं होने दिया। कल की तुलना में वह आज अधिक स्वच्छंद होकर खेले। उन्होंने आज जो 232 रन बनाए, उसके लिए केवल 245 गेंदें खेलीं।

करुण भारत की ओर से ट्रिपल सेंचुरी जड़ने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बन गए हैं। सहवाग ने भी 25 साल की उम्र में तिहरा शतक जड़ा था, लेकिन करुण ने 25 साल 13 दिन की उम्र में यह कारनामा किया, जबकि सहवाग ने अपनी पहली ट्रिपल सेंचुरी 25 साल 160 दिन की उम्र में जड़ी थी। भारत की ओर से ‘300 क्लब’ में शामिल होने पर विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने करुण का स्वागत किया है। उन्होंने ट्वीट कर करुण नायर को बधाई दी।

मुरली विजय सस्ते में आउट
भारत ने सुबह चार विकेट पर 391 रन से आगे खेलते हुए पहले सेशन में 72 रन जोड़े और मुरली विजय (29) का विकेट गंवाया, लेकिन दूसरे सत्र में नायर और अश्विन ने इंग्लैंड को कोई सफलता हाथ नहीं लगने दी। इस दौरान इन दोनों ने 119 रन जोडे। तीसरे सत्र में 177 रन बने और इस बीच दो विकेट निकले। घायल होने के कारण छठे नंबर

Leave a Reply