महाराष्‍ट्र: संकट में किसान, एक रुपये किलो पहुंचा प्‍याज का थोक मूल्‍य

महाराष्‍ट्र: संकट में किसान, एक रुपये किलो पहुंचा प्‍याज का थोक मूल्‍य

नासिक

महाराष्‍ट्र के नासिक स्थित प्‍याज की देश की सबसे बड़ी थोक मंडी लासलगांव एग्रीकल्‍चर प्रॉडक्‍ट मार्केट में प्‍याज का भाव किसानों को खून के आंसू रुला रहा है। बाजार में करीब 20 रुपये किलो बिक रहे प्‍याज को यहां पर किसान एक रुपये किलो बेचने को मजबूर हैं। इससे पहले 17 जुलाई 2017 को प्‍याज का थोक मूल्‍य एक रुपये किलो पहुंचा था। इससे किसानों को लागत तो छोड़‍िए, ट्रांसपोर्ट का खर्च ही निकालने में मुश्किल आ रही है।

जानकारों के मुताबिक प्‍याज की गर्मियों की फसल मार्च और अप्रैल में तैयार होती है और करीब छह महीने तक खराब नहीं होती है। इस बार यह बेहद असामान्‍य रहा कि गर्मियों की फसल की अंतिम खेप मध्‍य अक्‍टूबर तक बाजार में आई। इसके बाद खरीफ की फसल बाजार में आ गई। दरअसल, इस साल किसानों ने गर्मियों की प्‍याज की फसल को अच्‍छे दाम की चाहत में स्‍टोर करके रखा था।

हालांकि कम डिमांड और बाजार में अधिकता की वजह से प्‍याज की कीमतें बाजार में बहुत गिर गईं। यही नहीं अभी बाजार में आई खरीफ की नई फसल को भी कम दाम के संकट से जूझना पड़ रहा है। सोमवार को खरीफ की फसल भी दो रुपये किलो बिक रही थी और औसतन यह 5 रुपये किलो है। पिछले दो महीने में औसतन थोक मूल्‍य में 91 फीसदी की कमी आई है।

गत 17 अक्‍टूबर को प्‍याज 21.51 के भाव से बिक रहा था और मांग में कमी तथा आपूर्ति की अधिकता के कारण 24 दिसंबर को यह भाव 2 रुपये किलो पहुंच गया। प्‍याज की कीमतों में आई इस भारी गिरावट के कारण किसानों को अपने उत्‍पाद को बाजार में लाने के लिए आए ट्रांसपोर्ट के खर्च को निकालना मुश्किल हो गया है। यही नहीं न्‍यूनतम तापमान में आई गिरावट की वजह से प्‍याज अंकुरित होने लगी है जिससे किसानों का संकट और बढ़ गया है।

प्‍याज उत्‍पादक किसान कुबेर जाधव कहते हैं, ‘इतना कम दाम मिलेगा तो किसान कैसे अपनी आजीविका चलाएंगे? यदि हमें लाभ नहीं मिल रहा है तो कम से कम हमारा खर्च तो निकलना चाहिए।’ उन्‍होंने कहा कि सरकार को प्‍याज के लिए न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य 20 रुपये घोषित करना चाहिए। उधर, थोक मंडी के अधिकारी इस गिरावट के लिए किसानों को ही जिम्‍मेदार ठहरा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि किसानों ने अच्‍छे दाम की लालच में गर्मियों की प्‍याज को स्‍टोर किया। ये किसान अब बाजार में प्‍याज ला रहे हैं जो करीब 6 महीने पुराने हैं। इसी बीच अब खरीफ की प्‍याज भी बाजार में आ रही है जिससे बाजार में प्‍याज के दामों में भारी गिरावट आई है। सोमवार को मंडी में प्‍याज का थोक मूल्‍य एक रुपये प्रतिकिलो पहुंच गया और अधिकतम 3.91 रहा।

Leave a Reply