महाराष्ट्र : ईद मिलाद उन नबी पर शराब बैन को लेकर पशोपेश में सरकार

महाराष्ट्र : ईद मिलाद उन नबी पर शराब बैन को लेकर पशोपेश में सरकार

मुंबई

devendra_cm-300x215महाराष्ट्र सरकार एक अजीब ‘धर्मसंकट’ में फंस गई है। 25 तारीख को क्रिसमस और 24 को ईद मिलाद उन नबी है। मसला ये नहीं है कि दो धर्मों के त्यौहार एक दिन के अंतर पर हैं। मुस्लिम विधायकों के एक समूह ने महाराष्ट्र सरकार से 24 दिसंबर को शराब बिक्री पर बैन लगाने की मांग की है। मुस्लिम नेताओं ने महावीर और गांधी जयंती का हवाला देते हुए 24 को ड्राई डे की मांग की है। जबकि इसके अगले ही दिन क्रिसमस है।

कैबिनेट मंत्री एकनाथ खड़से ने बताया कि ऐसा पहली बार हुआ है जब सरकार के पास ईद मिलाद उन नबी पर शराब बैन करने की मांग आई है। इससे पहले किसी विधायक या नागरिक ने ऐसी मांग नहीं रखी।  उन्होंने कहा कि एक तरफ तो हम मुस्लिम समुदाय की भावना का सम्मान करते हैं। ये उनका धार्मिक मामला है कि शराब पीना प्रतिबंधित है। लेकिन दूसरी तरफ 25 को क्रिसमस भी है।

उन्होंने कहा कि दोनों समुदायों की भावना से हम असमंजस की स्थिति में हैं। अभी सरकार किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है। एक-दो दिन में इसपर निर्णय ले लिया जाएगा।  शुक्रवार को मुस्लिम नेताओं के एक समूह ने सीएम देवेंद्र फडनवीस से मुलाकात की। उन्होंने सीएम को एक ज्ञापन सौंपते हुए 24 दिसंबर (पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन) पर महाराष्ट्र में ड्राई डे की घोषणा करने की मांग की है।

कांग्रेस के सीनियर नेता नसीम खान ने कहा कि हमने सीएम फडनवीस से गुहार लगाई है कि हमारी मांग को मान लें। उन्होंने महावीर जयंती और गांधी जयंती का हवाला देते हुए कहा कि सरकार इस दिन ड्राई डे घोषित करती है।  नसीम खान ने ही मुस्लिम विधायकों के समूह का नेतृत्व किया। उनके साथ वारिस पठान और इम्तियाज अली (एआईएमआईएम), समाजवादी पार्टी के राज्य अध्यक्ष अबू असीम आजमी और विपक्ष के नेता राधाकृष्णा पाटील भी रहे।

Leave a Reply