काबुल में मोदी का भव्य स्वागत, अफगान संसद की इमारत का करेंगे उद्घाटन

काबुल में मोदी का भव्य स्वागत, अफगान संसद की इमारत का करेंगे उद्घाटन

- in अंतरराष्ट्रीय
0

मॉस्को

namप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिवसीय रूस यात्रा संपन्न हो गई है। इस दौरान दोनों देशों ने परमाणु और रक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ाने के लिए 16 समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी मॉस्को से अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पहुंचे। काबुल में मोदी का शानदार स्वागत किया गा। मोदी यहां अफगान संसद की नई इमारत का उद्घाटन करेंगे, जिसका निर्माण भारत ने नौ करोड़ अमेरिकी डॉलर की लागत से कराया है।

भारत और रूस ने अपने सामरिक संबंधों को बड़ी गति प्रदान करते हुए विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए 16 समझौतों पर हस्ताक्षर किए जिनमें 226 सैन्य हेलीकाप्टर का संयुक्त निर्माण और 12 परमाणु संयंत्र स्थापित करना शामिल है, जिसमें भारत की स्थानीय कंपनियों की सहभागिता होगी। रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के साथ विस्तृत बातचीत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकी समूहों और इसके निशाने वाले देशों के बीच बिना किसी भेदभाव और अंतर किए बिना एकजुट होकर पूरी दुनिया के आतंकवाद के खिलाफ लड़ने की जरूरत को रेखांकित किया।

इसे एक तरह से इस बुराई के स्रोत माने जाने वाले पाकिस्तान जैसे देशों के संबंध में देखा जा रहा है। दोनों नेताओं के बीच वार्ता के बाद जारी संयुक्त बयान में आतंकवाद पर चिंता व्यक्त करते हुए दोनों पक्षों ने इस वैश्विक बुराई के खिलाफ संयुक्त लड़ाई पर जोर दिया। साथ ही इस संबंध में चुनिंदा और दोहरा मापदंड नहीं अपनाने की बात कही गई।

पुतिन ने बताया कि रूस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता के प्रयासों का पुरजोर समर्थन करता है। पुतिन ने कहा कि भारत इसका पात्र और मजबूत उम्मीदवार है जो इस विश्व निकाय में स्वतंत्र और जिम्मेदार पहल को आगे बढ़ा सकता है। दोनों पक्षों के बीच बातचीत के दौरान व्यापक मुद्दों पर चर्चा की गई जिसमें आतंकवाद, रक्षा, सुरक्षा और उर्जा क्षेत्र में सहयोग के साथ कारोबार एवं निवेश बढ़ाने के विषय शामिल हैं। चर्चा के दौरान लोगों की आवाजाही को आसान बनाने पर भी जोर दिया गया। बातचीत के बाद दोनों पक्षों ने 16 समझौतों पर हस्ताक्षर किए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच हुए 16 समझौतों में एक भारत में कोमोव 226 हेलीकाप्टर के निर्माण का समझौता शामिल है। यह मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत प्रमुख रक्षा सहयोग परियोजना है। परमाणु उर्जा के क्षेत्र में सहयोग के बारे में मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ रहा है और भारत में दो स्थानों पर 12 रूसी रिएक्टर स्थापित करने की दिशा में भी प्रगति हो रही है।

पुतिन ने कहा कि तमिलनाडु में कुडनकुलम परमाणु संयंत्र की दूसरी इकाई कुछ सप्ताह में सेवा में शामिल हो जाएगी जिसका निर्माण रूस ने किया है और इसकी तीसरी और चौथी इकाई के लिए वार्ता अग्रिम चरण में है। भारतीय पक्ष ने साथ ही रूसी पक्ष से नेताजी सुभाषचंद्र बोस से जुड़ी किसी भी तरह की सूचना साझा करने का अनुरोध किया। विदेश सचिव एस जयशंकर ने कहा कि रूस ने भारतीय पक्ष से कहा कि वह विषय पर ध्यान देगा।

Leave a Reply