देश में ‘MenToo’ मूवमेंट की जरूरत: पूजा बेदी

देश में ‘MenToo’ मूवमेंट की जरूरत: पूजा बेदी

- in ग्लैमर
0

रविवार को रेप और अवैध वसूली के आरोपों में गिरफ्तार किए गए टीवी ऐक्टर करण ओबेरॉय के सपॉर्ट में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई। उनके ऊपर यह आरोप एक फैशन डिजाइनर ने लगाए हैं। मीडिया से बात करने के लिए इस मौके पर करण की बहन गुरबाणी ओबेरॉय, बेस्ट फ्रेंड पूजा बेदी, बैंड ऑफ बॉयज के मेंबर सुधांशु पांडेय, शेरिन वर्गीस, चैतन्य भोसले और सिद्धार्थ हल्दीपुर मौजूद थे।

यह बिल्कुल अविश्वसनीय स्थिति है: सुधांशु पांडेय
‘बैंड ऑफ बॉयज’ के मेंबर और करण के दोस्त सुधांशु पांडेय ने कहा, ‘मैं पिछले 2 दशक से करण को जानता हूं। हम दोनों ने पर्सनल और प्रफेशनल लाइफ में एक-दूसरे के अच्छे-बुरे दिन देखे हैं। करण के पिता एक सम्मानित रिटायर्ड आर्मी ऑफिसर हैं। वह एक बहुत अच्छी फैमिली से संबंधित हैं जहां बहुत अच्छी तरह से उनका पालन-पोषण हुआ है। ऐक्टर बनने से पहले करण मर्चेंट नेवी में थे। उन्होंने हमेशा बिना किसी बुराई के अनुशासन भरी जिंदगी जी है। क्योंकि हम उन्हें अच्छी तरह से जानते हैं, इसलिए उनपर जो आरोप लगाए गए हैं उन पर हम विश्वास नहीं कर सकते। मुझे जीवन में मिले लोगों में करण सबसे उदार लोगों में से एक हैं। इन आरोपों को तो छोड़िए, मैंने कभी उन्हें किसी महिला के साथ ऊंची आवाज में या बेरुखी से बात करते हुए भी नहीं देखा है। इसलिए अभी हमारे लिए यह बिल्कुल अविश्वसनीय स्थिति है। यही कारण है कि हम एक साथ आकर खड़े हुए हैं। हम लोगों को बताना चाहते हैं कि करण के साथ जो कुछ भी हो रहा है वह गलत है।’

करण को हुए नुकसान की भरपाई नहीं हो सकती: पूजा बेदी
ऐक्ट्रेस पूजा बेदी ने कहा, ‘हम सभी करण को जानते हैं और इस बात की जमानत दे सकते हैं कि वह बेहद शरीफ आदमी हैं। उन पर लगाए गए आरोप काफी गंभीर हैं। अभी तक जो सार्वजनिक तौर पर सामने आया है उसके मुताबिक, यह लड़की करण से साल 2016 के अंत में एक डेटिंग ऐप के जरिए मिली थी। यह घटना संभवतः 2017 की है और तब इसकी कोई खबर सामने नहीं आई थी। अक्टूबर 2018 में करण ने इस महिला के खिलाफ शोषण की शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि 2018 में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वह और करण रिलेशनशिप में थे और उन्होंने करण को कई सामानों के साथ ही गिफ्ट्स भी दिए थे। साल 2019 में उन्होंने करण के खिलाफ मामला दर्ज कराया और उन्होंने कथित तौर पर जनवरी 2017 की घटी घटना की शिकायता समय भी ऐसा चुना जबकि अदालतों की छुट्टियां हो जाती हैं। 2018 में दिए गए इंटरव्यू में उनके बयान 2019 में दर्ज कराई गई उनकी एफआईआर से बिल्कुल भी मेल नहीं खाते हैं।

2018 में अपने इंटरव्यू में उन्होंने 2017 में हुई घटनाओं का कोई जिक्र नहीं किया था। हालांकि हमने उनकी रिकॉर्डेड बातचीत के सारे प्रूफ भी दिए हैं लेकिन पुलिस के पास उनकी एफआईआर पर कार्रवाई करने के सिवाय को चारा नहीं है क्योंकि उन्होंने एक महिला के तौर पर यह शिकायत की है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि करण कितने मासूम हैं या उनके सपॉर्ट में कितने सबूत हैं, पुलिस को कानून के मुताबिक ही कार्रवाई करनी होगी। यह देखना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक ऐसा व्यक्ति जो बेहद सौम्य और शरीफ है उस पर ऐसे आरोप लगे हैं और ऐसी स्थिति में है। उनकी प्रतिष्ठा और करियर को हुए नुकसान और जिस स्थिति से उनका परिवार गुजर रहा है, उसकी भरपाई नहीं की जा सकती है। मेरे लिए यह स्वीकार करने योग्य नहीं है कि एक महिला किसी पुरुष के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज करा देती है और उसकी पहचान गुप्त रखी जाती है लेकिन आप आदमी की इमेज को पूरी तरह कलंकित कर सकते हैं। यह सच्चाई केवल करण के साथ ही नहीं बल्कि देश के काफी पुरुषों के साथ है। ऐसे मामलों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है जिसमें महिलाएं कानून का गलत इस्तेमाल कर रही हैं। वे इन कानूनों का दुरुपयोग या तो अवैध वसूली के लिए करती हैं या अपनी निजी खुन्नस निकालने के लिए या अन्य कारणों से करती हैं। मुझे लगता है कि हमें ऐसे लोगों की पहचान करनी चाहिए। आज करण ओबेरॉय जो कि मशहूर है, को एक रेपिस्ट बताया जा रहा है। कल को अगर उन्हें बरी कर दिया जाता है तो यह एक छोटी सी खबर होगी। लेकिन लोग हमेशा उन पर लगे रेपिस्ट के टैग को याद रखेंगे। उन्होंने (महिला ने) अपूर्णीय क्षति पहुंचाई है। अगर यह साबित होता है कि यह झूठा मामला है, जोकि होगा भी, तो मैं उस लड़की के खिलाफ, बल्कि आदमियों पर झूठे मामले दर्ज करने वाली सभी महिलाओं पर सख्त कार्रवाई होते हुए देखना चाहती हूं।’

पूजा ने आगे कहा, ‘मैं अपने पूरे जीवन में महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़ी हूं और पिछले साल से मैंने पुरुषों के अधिकारों पर लड़ना शुरू किया है। मैं समानता में विश्वास रखती हूं लेकिन एक पुरुष की जिंदगी खराब करने वाली महिला बचकर नहीं जानी चाहिए। जाली मामले दर्ज करने वाली महिलाओं पर सख्त ऐक्शन लिया जाना चाहिए ताकि वह किसी को ऐसे फंसा न सकें। कुछ मुट्ठीभर ऐसी महिलाओं के कारण लोग सही मामलों पर भी विश्वास नहीं करते हैं। रेप एक जघन्य अपराध है और कानून महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाया गया है। लेकिन अगर महिलाएं केवल पुरुषों को दंडित करने के लिए इसका गलत इस्तेमाल करें तो कानून को बदला जाना चाहिए। करण के साथ जो भी हुआ है इसके बाद ‘MenToo’ मूवमेंट शुरू किए जाने की जरूरत है।’

जब करण ने बताया कि एक महिला उनका पीछा कर रही है और धमका रही है: पूजा बेदी
पूजा ने कहा कि उन्होंने कभी इस लड़की के बारे में नहीं सुना था। उन्होंने कहा, ‘मैं करण को पिछले 15 सालों से जानती हूं और वह मेरे बेस्ट फ्रेंड हैं। हम एक-दूसरे की सभी रिलेशनशिप्स के बारे में भी जानते हैं लेकिन मैंने इस लड़की के बारे में कभी नहीं सुना था। यहां तक उनकी बहन भी इसके बारे में नहीं जानती थीं। जब करण ने हमें बताया कि एक महिला उनका पीछा कर रही है और उन्हें धमका रही है तब हमें इस लड़की के बारे में पता चला। इस लड़की का दावा है कि उनके पास कुछ खास ताकतें हैं। 2018 में करण इस महिला के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी और गार्ड से भी कहा था कि इसे बिल्डिंग के आसपास न आने दिया जाए। इसके बाद भी यह आती रहीं और करण को गिफ्ट देती रहीं। वह करण को धमकाती थीं कि अगर वह इन्हें नहीं लेते हैं तो वह इन्हें डला देंगी। सिक्यॉरिटी स्टाफ ऐसी कई घटनाओं का गवाह है। बदकिस्मती से ऐसे मामलों को रोकने के लिए देश में कोई कानून नहीं है। करण ने पुलिस में शिकायत करने, सिक्यॉरिटी स्टाफ को निर्देश देने सहित खुद को सुरक्षित रखने का हर वह तरीका अपनाया जो वह कर सकते थे। लेकिन यह अजीब ही है कि वह 2017 की इन कथित घटनाओं की इतने गंभीर आरोपों के साथ ऐसी शिकायत दर्ज कराती हैं जबकि 2018 में उनका व्यवहार बिल्कुल ही अलग था।’

कानून का गलत इस्तेमाल किया गया है: शेरिन वरगीस
करण के फ्रेंड और A Band Of Boys के सदस्य शेरिन वर्गीस का कहना है कि इस मामले में जिस FIR के बाद करण को गिरफ्तार किया गया है उसे काफी सही वक्त पर दायर किया गया है। उन्होंने कहा, ‘यह बताता है कि किस तरह से कानून का दुरुपयोग किया गया है और दूसरों को तकलीफ देकर वह इंसान किस तरह खुशी महसूस कर रहा है। आप किसी पर प्यार करने के लिए जबरदस्ती नहीं कर सकते और इस केस में भी वन साइड लव वाला ही मामला है। वह आदमी (करण) सिर्फ इसलिए तकलीफों और मुश्किलों से गुजरेगा, क्योंकि किसी ने कानून का गलत इस्तेमाल किया है।

पूजा ने आगे कहा, ‘जहां एक तरफ वह दावा कर रही है कि ने नशे की हालत में उनसे रेप किया वहीं दूसरी तरफ वह यह भी कह रही हैं कि उन्होंने (करण) सेक्स के लिए उनसे शादी का वादा किया था। उन्हें पहले यह खुद समझने की जरूरत है कि उन्होंने (करण) उनका रेप किया या फिर वह (लड़की) शादी के लिए उसके पीछे पड़ी थीं? उनके स्टेटमेंट में काफी विरोधाभास है।’

सेक्स के लिए प्रस्ताव उस लड़की ने दिए तो यह रेप कैसे हो सकता है: पूजा बेदी
यह भी कहा गया है कि वह लड़की नए-नए नंबर से करण को टेक्स्ट मेसेज किया करती थी, जिसे हर बार ऐक्टर ब्लॉक कर देते थे। लड़की ने जो टेक्स्ट मेसेज करण को भेजे थे उनमें से 13 जनवरी 2017 को भेजा हुआ मेसेज पूजा ने पढ़कर सुनाया। इस मेसेज में लिखा गया था, ‘करण, मैं ओपन और अपफ्रंट हूं। क्या हम फ्यूचर , इमोशंस और किसी और चीज के बारे में सोचे बिना सेक्स कर सकते हैं क्योंकि मेरी बॉडी को फिलहाल इसकी जरूरत है और मैं किसी और के साथ कम्फर्टेबल नहीं। तो मुझे बताएं कि इसके बारे में आपकी क्या राय है।’ इस मेसेज पर करण का जो जवाब था वह कुछ ऐसा था, ‘मैं फिलहाल इस बारे में नहीं सोच रहा। मैं अपने करियर को लेकर पहले से ही व्यस्त चल रहा हूं। करण के मेसेज से साफ है कि सेक्स के लिए प्रस्ताव उस लड़की ने दिए तो यह रेप कैसे हो सकता है?’

Leave a Reply