नोटबंदी के बाद एमपी, छत्तीसगढ़ में 400 खातों में हुए एक-एक करोड़ जमा

नोटबंदी के बाद एमपी, छत्तीसगढ़ में 400 खातों में हुए एक-एक करोड़ जमा

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल

note-7-300x224आयकर विभाग ने बताया कि नोटबंदी के बाद मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में 400 लोगों ने अपने खातों में एक-एक करोड़ या इससे अधिक रुपए जमा किये हैं। मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त अबरार अहमद ने बताया कि इनमें से कुछ खातों में तो चार करोड़ से पांच करोड़ रुपये तक जमा हुए हैं।

आयकर आयुक्त ने बताया कि ढाई लाख से ज्यादा रकम जमा कराने वाले बैंक खातों की जांच की जा रही है। पहले दौर में एक करोड़ से ज्यादा जमा करने वालों को नोटिस दिये जा रहे हैं। बाद में सूची बना कर खातेदारों को नोटिस भेजे जाएंगे। आयकर आयुक्त ने बीजेपी नेता सुशील वासवानी के ठिकानों पर पिछले 2 दिन से चल रहे छापों की कोई जानकारी नही दी। बार-बार पूछे जाने पर उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि जो अधिकारी इस मामले की जांच कर रहा है वह इस समय उपलब्ध नही हैं।

इस बीच यह भी पता चला है कि सुशील वासवानी ने भी 8 नवंबर के बाद अपने महानगर सहकारी बैंक के जरिए करोड़ों रुपये को सफेद किया है। वासवानी की बैंक में 10 से 15 नवंबर के बीच 100 से ज्यादा खाते खोले गये। इन खातों में मोटी रकम जमा की गयी। सूत्रों के मुताबिक 25 से ज्यादा खाते ऐसे हैं जिनमें करोड़ों रूपये जमा हुये हैं। फिलहाल आयकर विभाग महानगर सहकारी बैंक को केंद्र में रख कर ही अपनी जांच कर रहा है।

उसके इस बैंक में बीजेपी के कई बड़े नेताओं का पैसा लगा हुआ है। इन्हीं में से कुछ नेताओं ने 10 से 15 नवंबर के बीच इस बैंक के जरिए अपने पुराने नोट बदलवाये थे। इस बीच शिवराज मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्य उमाशंकर गुप्ता ने भी वासवानी के बैंक से जुड़े होने को लेकर सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि वे 1992 से बैंक से जुड़े है। लगातार उसकी साधारण सभा में शामिल होते रहे हैं। उन्हें बैंक में कभी कोई गड़बड़ नही दिखाई दी। अगर बैंक ने 8 नवंबर के बाद कोई गड़बड़ी की है और वह जांच में वह प्रमाणित होती है तो बैंक के खिलाफ जरूरी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

वासवानी के ठिकानों की जांच अभी भी चल रही है। बुधवार और गुरूवार को उसके बैंकों के लॉकर खोले गये। अभी कुछ लॉकर खोले जाने बाकी है। इस बीच कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग की है कि वे सुशील वासवानी के महानगर सहकारी बैंक में 10 से 15 नवंबर के बीच खोले गए 100 से ज्यादा खातों का पूरा ब्योरा सार्वजनिक करवायें।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव ने आरोप लगाया है कि इनकम टैक्स छापों में जो जानकारी सामने आई है उससे यह प्रमाणित हो रहा है कि बस कंडक्टर से अरबपति बने सुशील वासवानी ने बीजेपी के बड़े नेताओं और मध्यप्रदेश सरकार के मंत्रियों का कालाधन सफेद करवाया है। मुख्यमंत्री को राजनैतिक शुचिता का प्रमाण देते हुए इन सभी खातों का पूरा ब्योरा सार्वजनिक कराना चाहिए।

Leave a Reply