अब भोपाल में भी किसान ने की आत्महत्या

अब भोपाल में भी किसान ने की आत्महत्या

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल

farmersuicide_145067-300x261राजधानी भोपाल में भी अब किसान आत्महत्या कर रहे हैं। मामला रातीबढ़ थाना क्षेत्र का है। इसी थाने के अंतर्गत आने वाले गांव मुंगालिया छाप के अधेड़ किसान मनोहर मेवाड़ा ने फ ांसी लगाकर आत्महत्या कर ली । उसका शव पेड़ पर लटका पाया गया। मनोहर के परिवार पर बैंक का कर्ज था और बैंक प्रबंधन ने कर्ज अदायगी के लिए दो दिन पहले ही उन्हें नोटिस थमाया था। इससे मनोहर बेहद परेशान था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक,मनोहर के शव को आज सुबह कुछ ग्रामीणों ने समीपस्थ वन ग्राम भीलवाड़ा के पास एक पेड़ से लटक ते देखा। इसकी सूचना उन्होंने मनोहर के बेटे को दी। यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। बात थाने तक पहुंची तो पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मनोहर के शव को नीचे उतरवाया और पंचनामा बनाने के बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

मनोहर के बेटे हुकुमसिंह ने पुलिस को बताया कि उसके पिता गांव के ही एक मंदिर में सुबह चार बजे पूजन पाठ करते थे। रात्रि साढ़े तीन बजे जागना और स्नान करने के बाद मंदिर पहुंचना उनकी दिनचर्या में शामिल था। कल सुबह भी वह मंदिर के लिए निकले थे। हुकुम सिंह ने बताया कि सुबह करीब नौ बजे उन्हें एक ग्रामीण ने सूचना दी कि भीलवाड़ा गांव के पास उनके पिताजी का शव लटका है। इसके बाद ही पुलिस को सूचना दी गई ।

हाल के दिनों में भोपाल में ही किसान की आत्महत्या का यह दूसरा मामला है। हालांकि किसानों की आत्महत्या के मामले में मप्र देश में दूसरे स्थान पर है। हाल ही में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री मोहनभाई कुंडारिया ने राज्यसभा में बताया कि वर्ष 2014 में ही मध्यप्रदेश में 12,360 किसानों और खेतीहर मजदूरों ने आत्महत्या की है। जबकि इससे ज्यादा 1347 किसान व खेतीहर श्रमिकों ने तेलंगाना में मौत को गले लगाया।

Leave a Reply