साथी स्टूडेंट की शरारत से टॉपर ने खोया IIT का मौका

साथी स्टूडेंट की शरारत से टॉपर ने खोया IIT का मौका

पुणे

महाराष्ट्र के शहर पुणे में एक अलग तरह का साइबर क्राइम केस रजिस्टर किया गया है। यह साइबर क्राइम केस एक 17 साल के स्टूडेंट के पिता ने एक अन्य स्टूडेंट के खिलाफ कराया है। पिता ने अपनी शिकायत में बताया है कि उनके बेटे ने इस साल आईआईटी और अन्य इंजनियरिंग कोर्सेज में ऐडमिशन के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा दी थी। लेकिन परीक्षा के अच्छे नंबर के बावजूद उनके बेटे के एक दोस्त ने किसी तरह उसका ऐडमिशन अकाउंट हैक किया और आईआईटी के लिए एलिजिबल होने के बावजूद उसके नाम से छोटे कॉलेजों की चॉइस लॉक कर दी। इस पूरे मामले में मेधावी स्टूडेंट को अच्छे नंबर पाने और जेईई क्वालिफाई करने के बावजूद अपना एक साल बर्बाद करना पड़ा।

इस मामले में मंगलवार को पुलिस की साइबर सेल के पास दी गई शिकायत में बच्चे के पिता ने कार्रवाई की मांग की है। शिकायत में कहा गया है कि उनका बेटा कई महीनों से आईआईटी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहा था। इस एंट्रेस के लिए उसने पिंपरी-चिंचवाड़ के एक कोचिंग इंस्टीट्यूट में दाखिला भी लिया था। जिस बच्चे ने उसका अकाउंट हैक किया, वह भी इसी कोचिंग का स्टूडेंट था। पिता का कहना है कि बीते 25 जून को उनका बेटा कई अग्रणी इंजिनियरिंग संस्थानों जैसे आईआईटी, एनआईटटी और ट्रिपल आईटी के लिए चयनित हुआ था और इसी के लिए उसे एक सेंट्रलाइज पोर्टल पर चॉइस लॉक करनी थी।

साथ पढ़ने वाले छात्र पर ही आरोप
अपने स्कोर के आधार पर उक्त छात्र ने 364 कॉलेजों को इस लिस्ट में रखा था, लेकिन चॉइस लॉक करते वक्त उसने देखा कि उस लिस्ट में 100 ऐसे कॉलेज शामिल कर दिए गए हैं जिन्हें उसने चुना ही नहीं और इन सभी की चॉइस लॉक कर दी गई है। इसके बाद उसने अपने माता-पिता को इसकी जानकारी दी। पुलिस को दी गई शिकायत में पिता ने कहा कि उनके बेटे के अकाउंट को एक आईपी अड्रेस से हैक किया गया था और इस आईपी अड्रेस की पहचान उस स्टूडेंट से जुड़ी मिली जो कि पीड़ित छात्र के साथ उसी कोचिंग में पढ़ता था।

पत्र भेजने के बावजूद नहीं मिल सकी मदद
मामला पता चलने के बाद पीड़ित छात्र के पिता ने आईआईटी रुड़की को एक आवेदन भेजकर पूरी जानकारी दी, लेकिन फिर भी उन्हें कोई मदद नहीं मिल सकी। इसके कारण स्टूडेंट को आईआईटी में प्रवेश से वंचित होना पड़ा। साइबर सेल के मुताबिक, इस केस में अब आईटी ऐक्ट की धारा 43 और 66 के तहत केस दर्ज किया गया है। इसके अलावा इस केस में कोचिंग संस्थान को भी नोटिस जारी किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि आगे कोचिंग संस्थान के लोगों से भी पूछताछ की जा सकती है और फिर अगर जरूरत होती है तो आरोपी स्टूडेंट को गिरफ्तार किया जाएगा।

Leave a Reply