ताश के पत्तों की तरह बिखरी नंबर-1 टीम, बल्लेबाजी भारत को ले डूबी

ताश के पत्तों की तरह बिखरी नंबर-1 टीम, बल्लेबाजी भारत को ले डूबी

- in खेल
0

नई दिल्ली,

भारतीय टीम का आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 का सफर समाप्त हो चुका है. मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफर्ड में टीम इंडिया को न्यूजीलैंड ने 18 रनों से हराकर भारत की उम्मीदें तोड़ दीं. इस हार के लिए भारतीय टीम के बल्लेबाज जिम्मेदार रहे. इस मुकाबले में महेंद्र सिंह धोनी और रवींद्र जडेजा के बीच शतकीय साझेदारी हुई, लेकिन वे भी टीम को जीत के दहलीज तक नहीं पहुंचा पाए.

टॉप ऑर्डर बुरी तरह फ्लॉप रहा
न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया के टॉप-3 बल्लेबाजों ने बेहद घटिया प्रदर्शन किया. सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल और विराट कोहली मात्र 1-1 रन बनाकर आउट हो गए. वनडे इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब किसी टीम के टॉप-3 बल्लेबाज 1 रन के निजी स्कोर पर आउट हुए हों. भारतीय टीम ने 5 रन के स्कोर पर 3 विकेट खो दिए थे.

पंत-पंड्या ने टिककर अपना विकेट फेंका
इस मैच में ऋषभ पंत ने थोड़ी उम्मीद जगाई थी. उन्होंने 56 गेंदें खेलकर 32 रन की पारी खेली, लेकिन सेंटनर की गेंद पर शॉट खेलने के चक्कर में अपना विकेट गंवा बैठे. जिस वक्त पंत आउट हुए, उस वक्त उनसे ऐसे शॉट की उम्मीद नहीं थी. इस तरह हार्दिक पंड्या ने भी गलती की. पंड्या ने भी जिस वक्त गैर जिम्मेदाराना शॉट खेला, वो सही समय नहीं था. पंड्या ने 62 गेंद खेलकर 32 रन का पारी खेली.

जडेजा के आउट होते ही, खत्म हो गई उम्मीदें
7वें विकेट के लिए महेंद्र सिंह धोनी और रवींद्र जडेजा ने शतकीय साझेदारी की, लेकिन 208 रन पर जडेजा के आउट होते ही भारत के जीत की उम्मीदें खत्म हो गईं. 8 रन बाद धोनी भी रन आउट हो गए. इसके बाद भुवनेश्वर (0) और चहल (5) रन बनाकर आउट हो गई. इस तरह पूरी भारतीय टीम 240 रनों के जवाब में 221 रनों पर ऑलआउट हो गई.

Leave a Reply