यूके कोर्ट को बताया, ‘पत्नी की कमाई से चल रहा है माल्या का खर्च’

यूके कोर्ट को बताया, ‘पत्नी की कमाई से चल रहा है माल्या का खर्च’

- in कारपोरेट
0

लंदन

अपने बैंक अकाउंट पर भारतीय बैंकों का कब्जा रोकने के लिए विजय माल्या अपनी बदहाल जिंदगी की दास्तां सुना रहा है। जीवन के बेहतरीन दिनों में राजसी ठाटबाट से जीने वाला माल्या कह रहा है कि उसे जीवनयापन के लिए अपनी पार्टनर/पत्नी, पर्सनल असिस्टेंट, परिचित कारोबारियों और अपने बच्चों पर निर्भर होना पड़ गया है। ध्यान रहे कि यह वही विजय माल्या है जिसने 26 मार्च को ट्वीट कर कहा था, मुझसे पैसे ले लो, लेकिन जेट को बचा लो।

कर्ज देनेवाले बैंकों के सामने माल्या का झूठ
दरअसल, जिन 13 बैकों का 11,000 करोड़ रुपया माल्या के पास फंसा है, उन्होंने पिछले वर्ष 11 सितंबर को माल्या के खिलाफ बैंकरप्ट्सी पिटिशन दायर की जिस पर इस वर्ष दिसंबर महीने में सुनवाई होनी है। बैंकों की इसी याचिका पर पूछे गए सवाल के जवाब में माल्या ने कहा कि उसकी व्यक्तिगत संपत्ति सिमटकर 2,956 करोड़ रुपये की रह गई है और यह पूरी संपत्ति उसने बैंकों से सेटलमेंट के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के सामने पेश कर दी है। बैंकों ने माल्या से मिली इस जानकारी से यूके कोर्ट को अवगत कराया है।

माल्या का दावा
बैंकों ने कोर्ट को बताया कि माल्या की पार्टनर/पत्नी पिंकी ललवानी साल में करीब 1.35 करोड़ रुपये कमाती है। इसके मुताबिक, माल्या ने अपनी पर्सनल असिस्टेंट महल और एक परिचित कारोबारी बेदी से क्रमशः 75.7 लाख और 1.15 कोरड़ रुपये उधार भी ले रखे हैं। निजेल तोजी माल्या को कर्ज देने वाले 13 बैंकों का यूके कोर्ट में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। उन्होंने कोर्ट को जानकारी दी कि माल्या ने बैकों से कहा है कि उसने जीवनयापन और कुछ कर्ज चुकाने के लिए ये पैसे उधार लिए हैं। लंदन कोर्ट को तोजी की ओर से दी गई लिखित जानकारी से पता चलता है कि माल्या पर ब्रिटिश सरकार का करीब 2.40 करोड़ रुपये टैक्स के अलावा अपने पूर्व वकील मैकफर्लैंस का भी कुछ रुपये बकाया है। साथ ही, उसने भारतीय बैंकों की 3.37 करोड़ रुपये के कानूनी खर्च में से 1.57 करोड़ रुपये भी नहीं चुकाए हैं।

खर्च घटाने को तैयार है माल्या
माल्या के वकील जॉन ब्रिसबी ने बुधवार को यूके कोर्ट को बताया कि माल्या जीवनयापन के लिए 26.57 लाख रुपये हर सप्ताह खर्च करने की जगह अब हर महीने 16.21 लाख रुपये में गुजारा करने को भी तैयार है क्योंकि अब उसे हायर पर्चेज अग्रीमेंट के तहत 14.40 लाख रुपये का मासिक भुगतान नहीं करना है। गौरतलब है कि कोर्ट ने माल्या को जीवनयापन पर हर सप्ताह 16.51 लाख रुपये तक खर्च करने की अनुमति दी है। कोर्ट को यह भी बताया गया कि माल्या पर साउथ अफ्रीकन बैंक का भी 30.6 करोड़ रुपये बकाया है जो भारतीय बैंकों के बैंकरप्ट्सी पिटिशन में शामिल हो चुका है।

आदेश पर रोक लगाने की मांग
बुधवार को लंदन कोर्ट में भारतीय बैंकों की उस याचिका पर सुनवाई हुई, जिसमें बैंकों ने यूके स्थित आईसीआईसीआई बैंक में माल्या के करंट अकाउंट पर कब्जा देने की अपील की थी। बेंगलुरु डीआरटी ने अपने आदेश में बैंकों को अनुमति दी है, जिसके आधार पर बैंकों ने लंदन कोर्ट में याचिका दायर की है। दरअसल, 14 जनवरी को बैंकों को इंटेरिम थर्ड पार्टी ऑर्डर मिला था जिसके आधार पर बैंकों ने माल्या के अकाउंट में उस वक्त पड़े 2.33 करोड़ रुपये अटैच कर लिए थे। अब माल्या इस आदेश को रद्द करने की मांग कर रहा है और इसे अंतिम फैसले का रूप नहीं देने की गुहार लगा रहा है।

माल्या के दावों की उड़ाईं धज्जियां
माल्या के वकील ब्रिसबी ने कोर्ट में दलील दी कि आईसीआईसीआई बैंक ही एकमात्र साधन है जिसके जरिए माल्या अपने जीवनयापन का खर्च चला सकता है। इस पर बैंकों की वकालत कर रहे तोजी ने कहा, ‘माल्या को किंगफिशर बीयर यूरोप से हर महीने 6.75 लाख रुपये मिलते हैं जो आईसीआईसीआई बैंक के खाते में जमा नहीं होता है।’ उन्होंने कहा, ‘माल्या के रहन-सहन पर कोई आफत नहीं आने वाली है।’ तोजी ने आगे कहा, ‘माल्या पर अपनी पार्टनर या पत्नी और बच्चों की जिम्मेदारी है, लेकिन उसकी पार्टनर या पत्नी पिंकी ललवानी साल में करीब 1.35 करोड़ रुपये कमा रही है और बच्चे फैमिली ट्रस्ट के लाभार्थी हैं जिसमें मूल्यवान कलाकृतियां, कारें, दुनियाभर में मौजूद करोड़ों की संपत्तियां, भव्य नौकाएं और एक गेम रिजर्व शामिल हैं। हालांकि, बैंकरप्ट्सी प्रॉसिडिंग्स में माल्या दावा करते हैं कि वह पत्नी और बच्चों का खर्च उठा रहे हैं।’

Leave a Reply