ट्रेड वॉर: ट्रंप की धमकी के बावजूद चीन ने ठोका टैरिफ

ट्रेड वॉर: ट्रंप की धमकी के बावजूद चीन ने ठोका टैरिफ

नई दिल्ली

अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर टेंशन में लगातार इजाफा हो रहा है। अमेरिकी द्वारा 200 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर टैरिफ को 10 से बढ़ाकर 25 फीसदी किए जाने के बाद अब चीन ने भी जवाबी कार्रवाई की है। पेइचिंग ने सोमवार को घोषणा की कि 60 अरब डॉलर के अमेरिकी सामानों के आयात पर 1 जून से टैरिफ (आयात शुल्क) वसूला जाएगा। टैरिफ पॉलिसी कमिशन ऑफ स्टेट काउंसिल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि अमेरिकी उत्पादों पर टैरिफ 5 से 25 फीसदी होगा।

चीन के वित्त मंत्री ने कहा है कि कुल 5,140 अमेरिकी उत्पादों पर टैरिफ लागू किया जाएगा। अमेरिका और चीन के बीच व्यापार पर बातचीत पिछले शुक्रवार को असफल रही। अमेरिकी ने 200 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर टैरिफ बढ़ाकर 25 फीसदी करने के अलावा 300 अरब डॉलर के अन्य उत्पादों पर टैक्स लगाने की प्रक्रिया शुरू करने को कहा है।

ट्रंप की चेतावनी को किया दरकिनार
चीन ने यह कदम डॉनल्ड ट्रंप की उस चेतावनी के बावजूद उठाया है जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति ने पेइचिंग को जवाबी कार्रवाई बचने को कहा था। उन्होंने कहा था कि यदि चीन जवाब देता है तो स्थिति और खराब होगी। हालांकि, चीन भी अपने स्टैंड पर अडिग है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने सोमवार को कहा, ‘चीन किसी भी बाहरी दबाव के सामने नहीं झुकेगा।’ दोनों शक्तिशाली देशों के बीच ट्रेड वॉर पर दुनिया भर की निगाहें टिकी हैं। अमेरिकी शेयर बाजार में भी गिरावट आई है। दुनिया के दूसरे देशों के निवेशक भी सहमे हुए हैं।

ट्रंप ने किया अमेरिकी नीति का बचाव
अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने टैरिफ पॉलिसी नीति का बचाव किया और चीन पर व्यापार बातचीत के विफल होने का दोष मढ़ा है। ट्रंप ने अपने ट्वीट में चीन के खिलाफ सख्त रुख अपनाने का संकेत दिया। ट्रंप ने चीनी उत्पादों पर भारी शुल्क लगाने के अपने फैसले पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा, ‘हम सही हैं, हमें चीन के साथ जहां होना चाहिए हम वहीं हैं। याद रखिए, चीन ने हमारे साथ व्यापार समझौते को लेकर बातचीत को तोड़ा है और फिर से बातचीत की कोशिश की।’ उन्होंने कहा कि चीन से आयातित उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने से अमेरिका को काफी राजस्व मिलेगा।

Leave a Reply