बस हादसों पर UP मंत्री- खाना खाने के बाद वज्रासन करें ड्राइवर

बस हादसों पर UP मंत्री- खाना खाने के बाद वज्रासन करें ड्राइवर

लखनऊ

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में सोमवार को यमुना एक्सप्रेस-वे पर एक भीषण सड़क हादसा हो गया था। इस घटना में 29 लोगों की मौत हो गई थी। भयानक घटना के बाद परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने बुधवार को लखनऊ स्थित न्यू हैदराबाद के एक ऑडिटोरियम में समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि रोडवेज बस के प्रत्येक ड्राइवर को कम से कम 4 छुट्टियां दी जाएंगी। इसके अलावा लॉन्ग रूट पर नई बसों का संचालन किया जाएगा। उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि ढाबे पर खाना खाने के बाद ड्राइवर वज्रासन करें। ऐसा न कर पाने पर जब वह 20 तक आराम कर लेंगे तभी आगे का सफर तय कर पाएंगे।

समीक्षा बैठक में परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि सोमवार को हुई घटना ड्राइवर को झपकी लगने की वजह से हुई थी। उन्होंने कहा कि लंबी दूरी पर परिवहन निगम की बेस्ट बसें ही चलाई जाएंगी। यही नहीं, लॉन्ग रूट के लिए बेस्ट ड्राइवर्स को ही लगाया जाएगा ताकि इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाई जा सके। इस अहम बैठक में प्रदेश के सभी एआरएम, आरएम और सर्विस मैनेजर भी मौजूद थे। 1985 में भी हुआ था भयानक हादसा उधर, प्रबंध निदेशक परिवहन धीरज साहू ने कहा, ‘ड्राइवर की ड्यूटी लगाने के लिए सॉफ्टवेयर डिवेलप होगा और बसों की गति सीमा पर नजर रखी जाएगी।’ बता दें कि सोमवार को हुए हादसे से पहले 1985 में कानपुर में रोडवेज बस अनियंत्रित होकर गंगा बैराज से नीचे गिर गई थी। उस हादसे में ड्राइवर सहित सभी 62 यात्रियों की जान चली गई थी।

जिंदा जल गए थे 25 यात्री
वर्ष 2017 में बरेली में रोडवेज बस के फ्यूल टैंक में ट्रक की टक्कर के बाद लगी आग में 25 यात्री जिंदा जल गए थे। उधर, वर्ष 2016 में बांदा क्षेत्र में बस के इलेक्ट्रिक लाइन की चपेट में आने से 14 यात्रियों की मौत हो गई थी।

Leave a Reply