भारत प्रत्यर्पण के खिलाफ हाई कोर्ट की शरण में पहुंचा विजय माल्या

भारत प्रत्यर्पण के खिलाफ हाई कोर्ट की शरण में पहुंचा विजय माल्या

- in कारपोरेट
0

नई दिल्ली,

बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपये लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या ने अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील करने को लेकर फिर आवेदन किया है. माल्या ने ये आवेदन ब्रिटेन के उच्च न्यायालय में किया है. विजय माल्या की यह भारत को उसके प्रत्यर्पण के खिलाफ एक और कोशिश होगी.

बता दें कि माल्या की अपील के लिए अनुमति याचिका की पिछली कोशिश इससे पहले शुक्रवार को असफल हो चुकी है. इसके बाद माल्या के पास दोबारा आवेदन करने के लिए पांच दिन का समय था. कोर्ट के एक अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि एक रीन्यूअल फॉर्म प्राप्त हुआ है और इसे आने वाले समय में सूचीबद्ध कर दिया जाएगा. ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जाविद ने माल्या के प्रत्यर्पण के कोर्ट के आदेश पर फरवरी में हस्ताक्षर कर दिए थे.

माल्या को कोर्ट से मिल चुका है झटका
इससे पहले लंदन के एक कोर्ट ने विजय माल्या के भारत प्रत्यर्पित होने के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया था. माल्या ने कोर्ट में अपील की थी कि उसे भारत प्रत्यर्पित न किया जाए. विजय माल्या ने ब्रिटेन के गृह सचिव साजिद जाविद के उस निर्णय के खिलाफ याचिका दायर की थी जिसमें उन्होंने माल्या को भारत प्रत्यर्पित करने की मंजूरी दी थी.

गौरतलब है कि भारतीय बैंकों से धोखाधड़ी के मामले में आरोपी विजय माल्या जांच के दौरान ही मार्च 2016 में लंदन भाग गया था. माल्या को वापस लाने के लिए केंद्र सरकार और भारतीय जांच एजेंसियां लगातार प्रयास कर रही हैं.

दिसंबर 2018 में लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने माल्या को भारत भेजने का फैसला सुनाया था. इस फैसले के बाद प्रत्यर्पण संबंधी आदेश की फाइल होम सेक्रेटरी को भेज दी गई थी. होम ऑफिस ने भी माल्या के प्रत्यर्पण संबंधी फाइल पर दस्तखत कर दिए थे.ब्रिटेन कोर्ट के प्रत्यर्पण वाले आदेश के बाद माल्या ने भारत के बैंकों से लिए लोन का मूलधन वापस करने की पेशकश भी की थी. उसने ट्वीट कर कई बार कहा था कि वह मूल राशि का 100 प्रतिशत लौटाने को तैयार है और इसे स्वीकार किया जाए.

Leave a Reply