वर्ल्ड कप में विराट-धोनी का मेल बदलेगा खेल

वर्ल्ड कप में विराट-धोनी का मेल बदलेगा खेल

- in खेल
0

विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी। भारतीय क्रिकेट के दो बड़े नाम। दोनों के तालमेल का जब भी जिक्र होगा तो फैंस के सामने वे तस्वीरें जरूर आ जाएंगी जिसमें टीम के कप्तान तो कोहली हैं, लेकिन फील्ड सेट से लेकर गेंदबाज से बातचीत तक सब धोनी कर रहे हैं। इसकी आलोचना करने वाले लोग भले ही मौजूद हों, लेकिन ये तस्वीरें ही कोहली और धोनी के बीच जो केमिस्ट्री है उसे दिखाती हैं।

फील्ड पर विराट कोहली की आक्रमकता देखकर लोगों को अकसर लगता है कि वह खेल को अपने ढंग से देखते हैं। फैंस समझते हैं कि कोहली ‘माई वे ऑर हाइवे’ को मानते हैं। लेकिन ऐसा है नहीं। कोहली के कप्तान बनने से लेकर अबतक वह माई वे और माही वे को फॉलो करते दिख रहे हैं।

सीमित ओवर्स के खेल में ऐसे कई मौके आए हैं जब कोहली अपने पूर्व कप्तान धोनी को चार्ज देकर खुद बाउंड्री लाइन पर फील्डिंग करते दिखते हैं। यहां कोहली ने लंबे वक्त से क्रिकेट में अपनाई जा रही चीजों को बदला है। अबतक सीमित ओवर्स के खेल में कप्तान 30 गज के दायरे के अंदर रहकर फील्डिंग करते थे। जिससे वह गेंदबाज समेत बाकी खिलाड़ियों से सीधा संपर्क साध सकें। लेकिन कोहली ने लंबे वक्त से चली आ रही इस परंपरा को तोड़ा है।

जनवरी 2017 में जब विराट कोहली को कप्तानी सौंपी गई थी तो ऐसी शंका थी कि धोनी और उनके बीच सब ठीक से नहीं चलेगा। लेकिन इसके उलट विराट धोनी के फॉर्म में न होने के बावजूद उनके साथ बने रहे और अबतक पूरी कोशिश में हैं कि वह वर्ल्ड कप 2019 तक टीम का हिस्सा रहें। विराट का धोनी पर भरोसा इसी बात से देखा जा सकता है कि आखिरी ओवर्स के साथ-साथ शुरुआती 25 ओवर्स में भी धोनी फील्ड सेट करते हैं और गेंदबाजों को चिल्ला-चिल्लाकर सुझाव भी देते हैं।

अचानक नहीं बना तालमेल
धोनी और कोहली के बीच यह तालमेल अचानक नहीं बना है, बल्कि कोहली के टीम में आने के बाद से इसकी शुरुआत हो गई थी। इसका जिक्र करते हुए कोहली ने एक इंटरव्यू में कहा था कि यह उन दिनों की बात है जब मुझे उप कप्तान नहीं बनाया गया था। मेरे मन को भी कोई सुझाव आता था मैं कप्तान धोनी से शेयर करने में बिल्कुल हिचकता नहीं था।

पूर्व खिलाड़ियों को जोड़ी पर भरोसा
धोनी और कोहली की केमिस्ट्री पर पूर्व क्रिकेटर्स की भी नजर है। इसपर सुनील गावसकर ने कहा था कि विराट कोहली के लिए सबसे बेहतर चीज यही है कि उन्हें कीपर के तौर पर धोनी मिले हैं। वह बोले, ‘देखा गया है कि जब भी विराट डीप में फील्ड कर रहे होते हैं तो धोनी उनकी मदद करते हैं और अहम मौकों पर गेंदबाजों से बात भी करते हैं।’ गावसकर को यकीन है कि दोनों का ऐसा तालमेल वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की मदद करेगा।

गावसकर के बयान से पूर्व क्रिकेटर एस बद्रीनाथ भी सहमत हैं। उन्होंने कहा, ‘ऐसा इस वजह से हो पाता है क्योंकि विराट कोहली धोनी का बहुत सम्मान करते हैं। बहुत पहले उन्होंने कहा भी था कि धोनी मेरे कप्तान हैं और वह अबतक इस बात को मानते हैं। कोहली भावुक इंसान हैं, उन्हें कई मौकों पर धोनी की जरूरत होती है। यह कहना गलत नहीं होगा कि फील्ड पर दोनों एक दूसरे के पूरक हैं।’

Leave a Reply