साल 2018: इस साल इन खिलाड़ियों ने दिए यादगार लम्हे

साल 2018: इस साल इन खिलाड़ियों ने दिए यादगार लम्हे

- in खेल
0

नई दिल्ली

साल 2018 में क्रिकेट ने खेल प्रेमियों को कई यादगार मौके दिए। इन क्रेजी लम्हों को यादकर फैन्स बार-बार खुश होना चाहेंगे। इस साल टीम इंडिया ने अपने खाते में एशिया कप की जीत समेत कुछ और बड़ी उपबल्धियां जोड़ीं, तो वहीं इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक ने अपने क्रिकेट करियर का सुखद अंत किया। अगर एक ओर कुक के करियर का अंत यादगार था, तो दूसरी ओर भारत के युवा ओपनर पृथ्वी साव ने भी सेंचुरी जड़कर अपने टेस्ट करियर को यादगार बनाया। ऐसे ही कुछ और खास पल देखें यहां…

निदाहास ट्रोफी: दिनेश कार्तिक का छक्के से जीताना
श्री लंका में खेली गई त्रिकोणीय टी-20 सीरीज निदाहास ट्रोफी का यह फाइनल मैच था। भारत को अंतिम बॉल पर जीत के लिए 5 रन चाहिए थे। दिनेश कार्तिक (नाबाद 29 रन, 8 गेंदों में 2 चौके और 3 छक्के) ने सौम्य सरकार की आखिरी गेंद पर छक्का जड़ा और मैच में भारत को जीत दिला दी। डीके के इस छक्के ने फैन्स को रोमांचित कर दिया। उनके इस साहसी छक्के से भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ 4 विकेट से जीत दर्ज की।

कुक का रिटायरमेंट टेस्ट में शतक
इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक का फॉर्म इस साल कुछ खास नहीं रहा। ऐसे में उन्होंने भारत के खिलाफ खेली गई घरेलू सीरीज में अपने रिटायरमेंट की घोषणा कर दी। ओवल टेस्ट की पहली पारी में 71 रन बनाने के बाद कुछ दूसरी पारी में आखिरी बार मैदान पर उतरे और उन्होंने यहां शतक जड़कर अपने इंटरनैशनल करियर का यादगार अंत किया। इस पारी में कुक 147 रन बनाकर आउट हुए। इस उपलब्धि के साथ ही वह अपने करियर के पहले और आखिरी टेस्ट में शतक लगाने वाले इंग्लैंड के पहले और दुनिया के पांचवें बल्लेबाज बन गए। यह संयोग की बात है कि कुक ने अपने करियर का पहला शतक भी भारत के खिलाफ ही बनाया था। यह उनके करियर का 33वां टेस्ट शतक था।

भारत की एशिया कप जीत
एशिया कप के फाइनल में भारत के सामने बांग्लादेश था। इस लो स्कोरिंग मैच में भारत के सामने कमजोर समझी जाने वाली बांग्लादेशी टीम ने भी गजब का खेल दिखाया। 223 रन के टारगेट का पीछा कर रही टीम इंडिया को 7वीं बार यह खिताब जीतने के लिए अंतिम 6 बॉल में 6 रन की दरकार थी। भारत ने अंतिम गेंद पर 1 रन दौड़कर इस रोमांचक मैच में 3 विकेट से जीत दर्ज की।

भारत के लिए सबसे ज्यादा मैच खेलने वाले दूसरे खिलाड़ी धोनी
टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एशिया कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेलने उतरे, तो उन्होंने एक और नई उपलब्धि अपने नाम कर ली। अब वह भारत के लिए सबसे ज्यादा इंटरनैशनल मैच खेलने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं। धोनी का यह 505वां इंटरनैशनल मैच था। उन्होंने राहुल द्रविड़ (504 मैच) 0को पीछे छोड़ यह मुकाम हासिल किया। इस फेहरिस्त में महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर पहले स्थान पर हैं। सचिन तेंडुलकर ने भारत के लिए 664 मैच खेले हैं।

इस साल सबसे ज्यादा टेस्ट रन विराट के नाम
टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली ने अपनी उम्दा लय इस साल भी बरकरार रखी है और उन्होंने अब तक खेले 12 टेस्ट की 22 पारियों में 1240 रन बना लिए हैं। कोहली ने इस साल 56.36 की औसत से रन बनाए हैं अभी इस साल का अंतिम टेस्ट मैच मेलबर्न में खेला जाना बाकी है। कोहली के बाद इस फेहरिस्त में जो रूट का नाम है, जिन्होंने 13 टेस्ट की 24 पारियों में 41.21 की ऐवरेज के साथ 948 रन बनाए हैं।

अफगानिस्तान, आयरलैंड भी टेस्ट नेशन कंट्री
इस साल आयरलैंड और अफगानिस्तान की टीमों ने अपना-अपना पहला टेस्ट खेला। अब टेस्ट खेलने वाले देशों की संख्या बढ़कर 12 हो गई है। आयरलैंड ने जहां अपना पहला टेस्ट पाकिस्तान के खिलाफ खेला, वहीं अफगानिस्तान ने अपने टेस्ट सफर की शुरुआत भारत के खिलाफ खेलकर की।

पृथ्वी साव का टेस्ट डेब्यू शतक
राजकोट में वेस्ट इंडीज टेस्ट अपने टेस्ट करियर की शुरुआत करने वाले भारत के युवा ओपनिंग बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने डेब्यू टेस्ट में ही शतक जड़ दिया। 18 वर्षीय साव टेस्ट डेब्यू में शतक जड़ने वाले सबसे युवा भारतीय क्रिकेटर भी बने। उन्होंने 134 रन की पारी खेली जिसमें 154 गेंदों का सामना किया और इस दौरान 19 चौके जड़े।

Leave a Reply