Thursday , July 22 2021
Home / अंतरराष्ट्रीय / मां की गोद से फिसल बच्चा जन्नत पहुंचा, दुनिया में छिड़ी बहस

मां की गोद से फिसल बच्चा जन्नत पहुंचा, दुनिया में छिड़ी बहस

तुर्की

babyboy-300x200तीन साल का एलन कुर्दी अपने पांच साल के भाई और मां के साथ समंदर में डूब गया। पूरा परिवार 12 अन्य लोगों के साथ जंग से जूझ रहे सीरिया से निकलकर यूरोप जा रहा था। नाव समुद्र में पलट गई। एलन के पिता अब्दुल्ला बच गए। उन्होंने कहा- ‘मेरे दोनों बच्चे सबसे खूबसूरत थे। नाव में मां की गोद में सिमटे थे कि नाव डूब गई। मैंने बचाने की कोशिश की, लेकिन हाथों से फिसलते गए। आंखों के सामने समंदर में समा गए।’ बच्चे का शव तुर्की के मुख्य टूरिस्ट रिजॉर्ट के पास समुद्र तट पर औंधे मुंह पड़ा मिला। तस्वीर के सामने आते ही पूरी दुनिया में बहस छिड़ गई।

एलन की फोटो पर शुरू हुई बहस

दुनियाभर में एलन की फोटो छापने और न छापने पर खूब बहस हुई। कई अखबारों में छपा भी। ला-रिपब्लिका (इटली) ने हेडिंग दी- ‘दुनिया को खामोश करती एक उदास तस्वीर।’ इंग्लैंड के द सन ने लिखा ‘ ये जिंदगी और मौत है।’ डेली मिरर ने ‘असहनीय हकीकत’ बताया। मेट्रो ने लिखा- ‘यूरोप बचा नहीं सका।’ द टाइम्स ने कहा- ‘बंटे हुए यूरोप का चेहरा।’ डेली मेल ने लिखा- ‘मानवीय आपदा का मासूम शिकार।’

तुर्की के समुद्र तट पर मृत पड़े मिले सीरिया के तीन साल के बच्चे एलन की तस्वीर देखकर पूरी दुनिया में लोगों ने अपनी संवेदनाएं व्यक्त की। वहीं, इस बच्चे के पिता अब्दुल्ला कुर्दी ने कहा कि उसका बच्चा उसके हाथों से उस समय फिसल गया जब क्षमता से ज्यादा लोगों से भरी उनकी बोट ग्रीस के रास्ते में पलट गई। इस हादसे में अब्दुल्ला ने अपने तीन साल के बेटे आयलान, चार साल के बेटे गालेब और पत्नी रिहाना को गंवा दिया।

ये हादसा तब हुआ जब अब्दुल्ला इस कोशिश में लगा था कि वो सीरिया के कोबेन से निकलकर ग्रीस के कोस द्वीप पर पहुंच जाए। उनकी बोट जब गहरे पानी में पहुंची और अंधेरा हो गया तो दिक्कतें आने लगीं और सभी डर गए। अब्दुल्ला ने बताया कि पानी में कुछ ही दूर जाने के बाद हमारे पैर गील हो चुके थे। लेकिन जैसे ही बोट पलटी, मैंने बोट को और अपने बच्चों को पकड़ कर रखा था। लेकिन कुछ ही देर में वे हाथों से फिसल गए। फिर मैंने किनारे तक तैरने की कोशिश की। वहां उन्हें देखा लेकिन वे वहां नहीं मिले। जब मुझे वे नहीं मिले तो मैं सीधे अस्पताल पहुंचा और वहां मुझे बुरी खबर मिली।

इस बच्चे की उम्र लगभग 3 साल है और इसका नाम आयलान कुर्दी है. एक बार देखने पर तो ऐसा लगता है कि बच्चा समुद्र किनारे गहरी नींद में सो रहा है। लेकिन दरअसल ये बच्चा उन 12 दुर्भाग्यशाली लोगों में से एक है जो आईएसआईएस के आतंक से बचने के लिए तुर्की में शरण लेने जा रहे थे। सारे लोग 2 नावों पर सवार थे लेकिन उनकी नाव समुद्र में ही पलट गई। सोशल मीडिया पर तीन साल के इस बच्चे की तस्वीरों ने सारी दुनिया में बड़ी बहस छेड़ दी है।

आयलान की इस दर्दनाक मौत के बाद फ्रांस, ब्रिटेन, इटली समेत कई देशों ने तय किया है कि वे शरणार्थियों को शरण देने के लिए और उदार नीति बनाएंगे। ये तस्वीर आईएसआईएस के आतंकियों की दहशत का खौफनाक चेहरा भी दिखाती है। 3 साल का आयलान इस दुनिया में नहीं है, लेकिन अपने पीछे एक सवाल जरूर छोड़ गया है। आखिर आतंक की चौखट पर मासूम कब तक दम तोड़ते रहेंगे।

About Editor

Check Also

पुरुष यात्री हुआ ‘असहज’ तो मुस्लिम महिला को फ्लाइट से निकाला

एक मुस्लिम एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया है कि उन्हें फ्लाइट से महज इसलिए बाहर कर ...

Leave a Reply