Friday , May 7 2021
Home / भोपाल/ म.प्र / निगम मंडलों की पहली सूची जारी, ओम यादव बीडीए के नए अध्यक्ष

निगम मंडलों की पहली सूची जारी, ओम यादव बीडीए के नए अध्यक्ष

भोपाल

om-yadav_1440409692लंबे जद्दोजहद के बाद आखिरकार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को विकास प्राधिकरण और आयोग की पहली सूची जारी कर दी। उसमें भी मात्र पांच महत्वपूर्ण विकास प्राधिकरणों के पद हैं, शेष पांच आयोग और कर्मचारी संगठन के पद शामिल हैं।इसके साथ ही मराठी अकादमी के संचालक पद पर अश्विन खरे को नियुक्त किया गया है।

माना जा रहा है कि निगम-मंडलों की सूची के लिए फिर नए सिरे से मंथन होगा। मुख्यमंत्री सचिवालय ने इन सभी के आदेश जारी करने के लिए संबंधित विभागों को नाम भेज दिए हैं। आदेश जारी होने के बाद ही यह लोग पदभार ग्रहण करेंगे।

सबसे बड़ी बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय की गई सूची में विकास प्राधिकरण और आयोग के अध्यक्ष को लाल-पीली बत्ती लगाने को अधिकार नहीं है। ऐसे में सरकार यदि इनमें से किसी को राज्यमंत्री का दर्जा दे भी देती है तो भी वह अपने वाहन पर कोई बत्ती नहीं लगा पाएंगे।

सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री ने सोमवार सुबह 10 बजे सूची को अंतिम रूप दिया था। इसमें 16 लोगों के नाम थे, लेकिन संगठन के पदाधिकारी और केन्द्र में बैठे कुछ मंत्रियों की सहमति न हो पाने के कारण केवल 10 लोगों की ही सूची जारी हो पाई।

हालात यह रहे कि मुख्यमंत्री ने इंदौर रवाना होने से पहले दोपहर 1.50 बजे स्टेट हैंगर में सूची पर हस्ताक्षर किए। इसमें तीन पूर्व विधायक सहित बीजेपी संगठन के अहम पदों पर रहे लोगों को अवसर दिया गया है।

नाम-निगम-क्यों मिली जगह

ओम यादव-अध्यक्ष, भोपाल विकास प्राधिकरण-मुख्यमंत्री के करीबी माने जाते हैं। इसलिए बीडीए जैसे महत्वपूर्ण प्राधिकरण की जिम्मेदारी मिली।

अभय चौधरी-अध्यक्ष, ग्वालियर विकास प्राधिकरण-वर्तमान में ग्वालियर जिले के बीजेपी अध्यक्ष हैं। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के करीबी हैं। उन्होंने चौधरी को महापौर का टिकट दिलाने का भी प्रयास किया था, लेकिन संघ से विवेक शेजवलकर का नाम आने के बाद दावा छोड़ दिया था।

राकेश जादौन-अध्यक्ष, ग्वालियर काउंटर मैगनेट सिटी प्राधिकरण-केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के नजदीकी हैं। उन्होंने पहले जादौन को विकास प्राधिकरण में उपाध्यक्ष बनवाया था। लंबे समय से तोमर से जुड़े हुए हैं, इसलिए ग्वालियर जिले के संगठन में अहम पद मिलते रहे हैं।

विनोद मिश्रा-अध्यक्ष, जबलपुर विकास प्राधिकरण-संगठन महामंत्री अरविंद मेनन के करीबी माने जाते हैं। मिश्रा अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं। संघ में गहरी पैठ भी है। जबलपुर संगठन के पूर्व महामंत्री गोविंद आर्य के भी करीबी हैं।

जगदीश अग्रवाल-अध्यक्ष, उज्जैन विकास प्राधिकरण-मंत्री पारसचन्द्र जैन के करीबी हैं। यूडीए के लिए पहले किशोर खंडेलवाल का नाम तय माना जा रहा था, ऐन वक्त पर अग्रवाल का नाम फाइनल।

बंशीलाल गुर्जर-अध्यक्ष, कृषक आयोग-भारतीय किसान संघ के तत्कालीन अध्यक्ष शिव कुमार शर्मा (कक्काजी) के बीजेपी छोड़ने के बाद उनकी जगह बेहतर तरीके से किसान संघ की कमान संभालने वाले गुर्जर को राज्य कृषक आयोग का अध्यक्ष बनाकर उपकृत किया गया है।

नरेंद्र मरावी-अध्यक्ष, जनजाति आयोग-मरावी को अरविंद मेनन का करीबी माना जाता है। वह शहडोल लोकसभा सीट से टिकट दिलाना चाहते थे।

भूपेंद्र आर्य-अध्यक्ष, अनुसूचित जाति आयोग-बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान के कोटे से पूर्व विधायक आर्य को ये जिम्मेदारी दी गई है।

शिवराज शाह-अध्यक्ष, एससी-एसटी वित्त विकास निगम-झाबुआ-रतलाम लोकसभा सीट पर उपचुनाव को देखते हुए मंडला के शिवराज शाह को आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम का अध्यक्ष बनाया गया है।

रमेश शर्मा-अध्यक्ष, कर्मचारी कल्याण समिति-लंबे समय से कर्मचारी संघ की कमान संभाल रहे शर्मा ने व्यापमं घोटाले में विपक्ष के हमलों के बाद मुख्यमंत्री के पक्ष में कर्मचारियों को एकत्र करने में अहम भूमिका निभाई थी।

About Editor

Check Also

हार के बाद भी शिवराज सरकार में इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया बने हैं मंत्री, आगे क्या

भोपाल उपचुनाव में शिवराज सरकार में शामिल 2 मंत्री चुनाव हार गए हैं। चुनाव हारने ...

Leave a Reply