Saturday , July 24 2021
Home / भोपाल/ म.प्र / दूध का पैकेट उठाने में गई इंजीनियरिंग छात्र की जान

दूध का पैकेट उठाने में गई इंजीनियरिंग छात्र की जान

भोपाल

bpl-N3808087-large-300x192रामेश्वरम कॉलोनी में हाइटेंशन लाइन की चपेट में आने से सोमवार सुबह एक इंजीनियरिंग छात्र की मौत हो गई। छात्र ने अपने दोस्त से दूध का पैकेट मंगाया था। ग्राउंड फ्लोर से दोस्त ने दूध का पैकेट फेंका, लेकिन वह दूसरी मंजिल पर जाने के बजाए पहली मंजिल पर आ गिरा। पाइप की मदद से छात्र पैकेट उठाने लगा, तभी पाइप का दूसरा सिरा पास से गुजर रही हाइटेंशन लाइन से जा टकराया।

मूलत: रेणुकोट, सोनभद्र निवासी 21 वर्षीय राधेश्याम पिता विंध्येश्वरी गुप्ता यहां रामेश्वरम कॉलोनी स्थित मकान नंबर 246 में रहता था। वह वीएनएस कॉलेज में बीई थर्ड इयर का छात्र था। दूसरी मंजिल पर स्थित फ्लैट में उसके साथ सुजीत, दीपराज और सूरज भी रहते थे। बागसेवनिया थाने के एसआई कृष्ण कुमार गौतम के मुताबिक सोमवार सुबह करीब सात बजे मौसम ठंडा होने के कारण दीपराज घर के बाहर टहल रहा था।

तभी राधेश्याम ने बालकनी से उसे दूध का पैकेट लाने के लिए पैसे दिए। सीढ़ियों से जाने के बजाए राधेश्याम ने दीपराज को दूध का पैकेट फेंकने के लिए कहा। उसने पैकेट फेंका भी, लेकिन वह दीवार से टकराकर पहली मंजिल की बालकनी में जा गिरा। इसके बाद दीपराज कमरे में आ गया, जबकि राधेश्याम पानी के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पाइप (प्लास्टिक कोटेड लोहे का पाइप) से दूध का पैकेट खींचने लगा।

दूध का पैकेट तो नहीं उठा, लेकिन पाइप का दूसरा सिरा घर के पास से गुजर रही हाइटेंशन लाइन से जा टकराया। राधेश्याम के साथ हुए हादसे की जानकारी उसकी मां को नहीं दी गई है। पिता भी केवल इतना ही जानते हैं कि उसे करंट लगा है। दोस्तों को कहना है कि राधेश्याम पढ़ाई में तो औसत था, लेकिन सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेता था।

About Editor

Check Also

हार के बाद भी शिवराज सरकार में इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया बने हैं मंत्री, आगे क्या

भोपाल उपचुनाव में शिवराज सरकार में शामिल 2 मंत्री चुनाव हार गए हैं। चुनाव हारने ...

Leave a Reply