Sunday , June 20 2021
Home / भोपाल/ म.प्र / इंश्‍योरेंस के नाम पर इस गिरोह ने 1500 लोगों से कैसे की 100 करोड़ की ठगी

इंश्‍योरेंस के नाम पर इस गिरोह ने 1500 लोगों से कैसे की 100 करोड़ की ठगी

ग्वालियर

Gwalior-Fraud-300x200ग्वालियर पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बीमा योजनाओं के नाम पर 100 करोड़ की धोखाधाड़ी करने वाले गिरोह का खुलासा करते हुए गिरोह के 20 सदस्यों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए आरोपियों में 8 महिलाएं भी शामिल हैं. अनुमान है कि बीमा योजनाओं के नाम पर 1500 से ज्यादा लोगों के साथ ठगी की गई है.

क्राइम ब्रांच की प्रभारी एएसपी प्रतिभा मैथ्यू ने बताया कि ग्वालियर के रेलवे कर्मचारी सुरेंद्र सिंह ने एक अप्रैल 2015 को 17 लाख रुपए ठगे जाने की शिकायत क्राइम ब्रांच में की थी. करीब 50 दिन तक जांच के बाद पुलिस दिल्ली से संचालित इस गिरोह तक पहुंच गई. प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि इस गिरोह का नेटवर्क मध्यप्रदेश के अलावा उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, गुजरात और महाराष्ट्र के अलावा देश के कई राज्यों में फैला हुआ है.

लैप्स पॉलिसी पर बोनस दिलाने के नाम पर ठगी  पुलिस को जांच में पता चला कि इस गिरोह के सदस्य उन लोगो से संपर्क करते थे, जिनकी पॉलिसी लैप्स हो जाती थी. उन्हें लैप्स हो चुकी पॉलिसी का बोनस दिलाने के नाम पर लाखों रुपये ऐंठते थे. गिरोह के सदस्य मार्केट में मौजूद पर्सनल डेटा को खरीद लेते थे. फिर दिल्ली स्थित ऑफिस से ऐसे लोगों को फोन लगाकर उनकी बीमा पॉलिसी की जानकारी ली जाती थी.

गिरोह के सदस्य अपना परिचय इंश्योरेंस अथॉरिटी के प्रतिनिधि के रुप में देते थे. पॉलिसी में फंसे पैसे को वापस दिलाने और खाली जमीन पर टॉवर लगवाने की बात कहकर मोटी कमाई का लालच देते थे. यदि कोई व्यक्ति फंस जाता तो उससे चेक या डीडी के नाम पर 10 लाख रुपए तक ले लिए जाते थे.

अब तक 100 करोड़ की ठगी एएसपी प्रतिभा मैथ्यू ने बताया कि यह गिरोह बीमा पॉलिसी के बोनस, लोन, मोबाइल टॉवर लगवाने के नाम पर लोगों से ठगी करता था. शुरूआती जांच में जो दस्तावेज मिले है उससे साफ है कि अब तक करीब 1500 लोगों के साथ ठगी की जा चुकी है. इस गिरोह ने एक व्यक्ति से 5 से 10 लाख रुपए की ठगी की है. इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस गोरखधंधे के जरिए अब तक 100 करोड़ से अधिक की ठगी की जा चुकी है.

एमबीए की डिग्री और इंग्लैंड में नौकरी गिरोह के सभी सदस्य दिल्ली के रहने वाले है, जबकि सरगना सुमित रंजन एमबीए करने के बाद इंग्लैंड में नौकरी करने लगा था. इंग्लैंड से वापस लौटने के बाद उसने ठगी करने का गोरखधंधा शुरू कर दिया. इस फर्जीवाड़े में उसकी पत्नी उर्वशी भी उसका साथ देती थी.

About Editor

Check Also

हार के बाद भी शिवराज सरकार में इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया बने हैं मंत्री, आगे क्या

भोपाल उपचुनाव में शिवराज सरकार में शामिल 2 मंत्री चुनाव हार गए हैं। चुनाव हारने ...

Leave a Reply