Saturday , February 20 2021
Home / भोपाल/ म.प्र / मप्र की राजनीति में कोई रुचि नहीं, हर बार करूंगी शिवराज का समर्थन: उमा

मप्र की राजनीति में कोई रुचि नहीं, हर बार करूंगी शिवराज का समर्थन: उमा

भोपाल

img-20150816-wa0046_14397-300x257मध्य प्रदेश की राजनीति में मुझे कोई रूचि नहीं है और ना ही मैं प्रदेश की मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं। मैं चाहती हूं कि शिवराज सिंह चौहान बार-बार मप्र के सीएम बने। वे जीतनी बार चुनावी मैदान में होंगे मैं उतनी बार उनका समर्थन करूंगी। यह बातें मप्र की पूर्व सीएम और केंद्रीय मंत्री उमा भारत ने सेंट्रल प्रेस क्लब की ओर से आयोजित प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि, शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में काफी अच्छा काम कर रहे हैं।

केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने राज्य से जुड़े व्यवसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले को संसद में उठाए जाने पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि, इस मामले में केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को जांच सौंपें जाने से मैं संतुष्ट हूं। सीबीआई अच्छा काम कर रही है और इससे पहले एसटीएफ व एसआईटी ने भी अच्छा काम किया। इस मामले में जब मेरा नाम लिया गया था, तो मैं बहुत आहत हुई थी और उस आधार पर मैंने अपना बयान दिया था, लेकिन आज मुझे यदि बयान देने के लिया बुलाया जाएगा तो मैं जरूर आऊंगी।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने सेंट्रल प्रेस क्लब की ओर से आयोजित प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि व्यापमं मामले में विशेष कार्य दल (एसटीएफ) द्वारा की जा रही जांच अनुकूल चल रही थी। हालांकि, जिस प्रकार की परिस्थितियां निर्मित हुई थी उसके मद्देनजर सीबीआई को जांच सौंपने का निर्णय सही था। इसके बाद इस मुद्दे को संसद में उठाए जाने की कोई आवश्यकता नहीं थी।

मोदी पर लिखूंगी किताब अपनी राजनीतिक सफर के बारे में बताते हुए उमा भारत ने कहा कि, मैं पीएम नरेंद्र मोदी से काफी प्रभावित हूं। जब मैं मप्र की सीएम थी उस वक्त मैं उनसे हर हफ्ते बात किया करती थी। प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की और कहा कि मैं उन पर एक किताब लिखने जा रही हूं। मोदी ने कई विषयों का गहराई से अध्ययन किया है। एक वक्त था जब मैं गंगा को प्रदूषणमुक्त करने को लेकर काफी परेशान थीं, क्योंकि एक साल में इसका काम दिखाई नहीं दिया था, उस वक्त उन्होंने ही मुझे ढांढस बधाया था। उमा ने कहा कि दस साल बाद गंगा जल मिनरल वॉटर से भी अच्छा होगा। इस वक्त गंगा दुनिया की दस सबसे ज्यादा प्रदूषित नदियों में से एक है, लेकिन दस साल बाद यह दुनिया की सबसे स्वच्छ नदियों में से एक बन जाएगी।

About Editor

Check Also

हार के बाद भी शिवराज सरकार में इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया बने हैं मंत्री, आगे क्या

भोपाल उपचुनाव में शिवराज सरकार में शामिल 2 मंत्री चुनाव हार गए हैं। चुनाव हारने ...

Leave a Reply