Monday , January 17 2022
Home / राष्ट्रीय / NSA मीटिंग: भारत ने पाक को उसके ही खेल में दी शिकस्त

NSA मीटिंग: भारत ने पाक को उसके ही खेल में दी शिकस्त

नई दिल्ली/श्रीनगर 

geelani-300x200भारत ने बड़ी चालाकी से पाकिस्तान को उसके ही खेल में पटखनी दे दी है। पाकिस्तान ने 23-24 अगस्त को नई दिल्ली में तय नैशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर की मीटिंग से पहले ही हुर्रियत नेताओं को नई दिल्ली में डिनर पर न्योता दिया था। इसके जवाब में भारत ने सीधे हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी से बात करके पाकिस्तान के मंसूबों पर पानी फेर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक, भारत ने गिलानी को इस बात के लिए राजी लिया है कि वह पाकिस्तानी एनएसए सरताज अजीज के बुलावे पर 23 अगस्त को न जाकर अगले दिन जाएं। भारत ने गिलानी को समझाया कि सरताज अजीज के साथ भारत के एनएसए अजीत डोभाल के साथ मीटिंग के बाद ही उन्हें मुलाकात करनी चाहिए।

इसके पहले, बुधवार को पाकिस्तान ने भारत को उकसाते हुए एनएसए मीटिंग से पहले ही गिलानी, यासीन मलिक, मीरवाइज फारूक जैसे हार्डलाइनर हुर्रियत नेताओं को सरताज अजीज से बात करने का न्योता दिया था। सूत्रों की मानें तो मीरवाइज फारूक और शब्बीर शाह डिनर अटेंड करेंगे, लेकिन गिलानी सोमवार को ही दिल्ली आएंगे।

इसे पाकिस्तान की सोची-समझी चाल माना जा रहा था क्योंकि पिछले साल तय विदेश सचिव स्तर की वार्ता से पहले भी दिल्ली में पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने हु्र्रियत नेताओं से मुलाकात की थी, जिसके बाद भारत ने मीटिंग ही रद्द कर दी थी।  इस बार, भारत ने ऐसा न करते हुए दूसरा रास्ता निकाला जो कई मायनों में सही माना जा रहा है।

भारत के लिए यह बड़ा मौका है जब पाकिस्तान के सामने आतंक के सबूत रखकर उन पर सीधी बात की जा सकती है। अगर यह मीटिंग रद्द होती, तो एक बार फिर इन मुद्दों पर बात होनी मुश्किल थी।  सरकार के एक सूत्र ने कहा, ‘बातचीत और आंतक एक साथ नहीं चल सकते पर आतंक के मुद्दे पर जरूर बात चल सकती है।’ सूत्रों ने यह भी बताया कि पाकिस्तानी सरकार के ही कई लोग रूस के उफा में तय हुई भारत-पाक की एनएसए लेवल मीटिंग से नाखुश थे। वहां विदेश सचिव स्तर की बातचीत पर जोर था तो भारत आतंकवाद और सीमा विवाद पर ही बात करना चाहता था।

एनएसए की बैठक से पहले गिलानी और मीरवाइज नजरबंद

भारत-पाकिस्तान के बीच एनएसए स्तर की बातचीत से पहले सरकार ने अलगाववादी नेताओं सैय्यद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक को नजरबंद कर लिया है। हालांकि आधिकारिक रूप से अभी इसकी कोई वजह नहीं बताई गई है क्योंकि आमतौर पर किसी बड़ी रैली या कार्यक्रम के मद्देनजर ही इन्हें नजरबंद किया जाता है।

23 अगस्त को होने वाली पाकिस्तान से एनएसए स्तर की बात से पहले पाकिस्तान ने इन्हें भी दिल्ली आने का न्यौता दिया था। लेकिन 23 अगस्त की बैठक से पहले भारत ने पाकिस्तान की चारों तरफ से मोर्चाबंदी कर दी है। इस वार्ता में भारत पाकिस्तान को सबूतों के साथ उसकी करतूतों से वाकिफ कराकर उसका नकाब उतारने की तैयारी कर ली है। बताया जा रहा है कि भारत पाकिस्तान को आतंक से जुड़े सबूत देगा।

About Editor

Check Also

आर्मी चीफ नरवणे की चेतावनी, LoC पार करने वाले आतंकी जिंदा नहीं लौट पाएंगे

नई दिल्ली जम्मू-कश्मीर के नगरोटा इलाके में गुरुवार सुबह सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को मार ...

Leave a Reply