Thursday , June 17 2021
Home / अंतरराष्ट्रीय / आतंक के खिलाफ यूएई अब भारत के साथ, इशारा समझे पाकः मोदी

आतंक के खिलाफ यूएई अब भारत के साथ, इशारा समझे पाकः मोदी

दुबई

india-pm-300x228दुबई के इंटरनैशल क्रिकेट स्टेडियम में ‘मरहबा नमो’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार शाम ‘नमो-नमो’ के नारों के बीच 50 हजार प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए पाकिस्तान को आतंकवाद पर कड़ा संदेश दिया। भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के आतंकवाद के खिलाफ मिलकर लड़ने के संकल्प का जिक्र करते हुए मोदी ने बिना पाकिस्तान का नाम लिए कहा कि समझदार के लिए इशारा काफी होता है।

पाकिस्तान को आतंकवाद पर दो टूकः मोदी ने कहा, ‘आतंकवाद के खिलाफ दुबई और भारत ने एकता के स्वर के साथ संदेश दे दिया है। मैं इसे बहुत अहम मानता हूं। समझने वाले समझ जाएंगे, अक्लमंद को इशारा काफी है।’ मोदी के इस भाषण से पहले यूएई ने आतंकवाद और कट्टरता के सभी रूपों के खिलाफ भारत के साथ मिलकर लड़ने का संकल्प लिया था। इसमें आतंकवाद को सही ठहराने के लिए धर्म का इस्तेमाल करने वालों और दूसरे देशों के खिलाफ आतंकवाद को पनाह देने वालों का विरोध भी शामिल है। इसे पाकिस्तान के लिए एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है।

भारत के प्रति बदला दुनिया का नजरियाः मैं दोनों देशों के बीच साझा बयान में आतंकवाद से लड़ने के प्रति जताई प्रतिबद्धता को बेहद महत्वपूर्ण मानता हूं। आज दुनिया का हिंदुस्तान की ओर देखने का नजरिया पूरी तरह बदल चुका है। इसकी वजह मोदी नहीं, बल्कि 125 करोड़ भारतीयों की संकल्प शक्ति के बाद आया है।

यूएई के समर्थन के लिए शुक्रियाः मोदी ने यूएई द्वारा सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करने पर आभार भी जताया। मोदी ने कहा, ‘आतंकवाद में शामिल लोगों को सजा होनी चाहिए, यह स्पष्ट संकेत यूएई से निकला है। मैं आज यहां के शासकों का इसलिए भी आभारी हूं कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र जब अपने 70 साल मनाने जा रहा है, तब यहां से कहा गया है कि भारत को सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता मिलनी चाहिए।’

आतंकवाद की परिभाषा पर उलझन में UN: उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में एक प्रस्ताव कई सालों से लटका पड़ा है। जो संयुक्त राष्ट्र पहले विश्व युद्ध के बाद से काम कर रहा है, वह अभी आतंकवाद की परिभाषा तय नहीं कर पाया है। किसे आतंकवाद कहा जाए और किसे नहीं, वह यह तय नहीं कर पाया है। मुझे खुशी है कि दुबई के प्रिंस ने भारत के स्टैंड का समर्थन किया है। आतंकवाद से लड़ने के विषय में आपने स्पष्ट संकेत दे दिए हैं।

आतंकवाद पर दुनिया ने समझी मेरी बादः मोदी आगे कहा, ‘जब मैं कहता था कि आतंकवाद गंभीर समस्या है तो सब कहते थे कि यह लॉ ऐंड ऑर्डर की समस्या है। आज लोग समझ रहे हैं कि यह कितनी विकराल समस्या है। बैंकॉक की घटना को ही ले लीजिए। जब तक आतंकवाद की मानसिकता का समर्थन करने वाले देशों की तरफ मानवता में यकीन करने वाले देश एकजुट होकर कड़ी नजर से नहीं देखेंगे, तब तक इस समस्या का खात्मा नहीं होगा।’

यूएई करेगा 4.5 लाख करोड़ निवेशः मोदी ने कहा कि यूएई के प्रिंस ने भारत में 4.5 लाख करोड़ रुपये निवेश करने वादा किया है। अगर आप पर किसी का भरोसा न हो तो कोई आप पर 10 रुपये लगाने के लिए भी तैयार होगा क्या? आज भारत की साख बनी है, हम पूरी दुनिया से कदम मिलाकर चल रहे हैं।

About Editor

Check Also

पुरुष यात्री हुआ ‘असहज’ तो मुस्लिम महिला को फ्लाइट से निकाला

एक मुस्लिम एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया है कि उन्हें फ्लाइट से महज इसलिए बाहर कर ...

Leave a Reply