Tuesday , June 22 2021
Home / अन्य राज्य / भारत / महाराष्ट्र पुलिस के दावे पर शिवसेना का हमला, माओवादी नहीं जनता पलटती है सरकारें

महाराष्ट्र पुलिस के दावे पर शिवसेना का हमला, माओवादी नहीं जनता पलटती है सरकारें

मुंबई

केंद्र तथा महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ राजग की घटक शिवसेना ने महाराष्ट्र पुलिस के इस दावे को ‘मूर्खतापूर्ण’ बताया कि गिरफ्तार किए गए पांच वामपंथी कार्यकर्ता मोदी सरकार को पलटने की कथित माओवादी साजिश में शामिल थे. शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा से जुड़े मुद्दे पर भी सवालिया निशान लगाया और कहा कि उनकी सुरक्षा मजबूत है और उस संबंध में चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है.

शिवसेना के मुखपत्र सामना में सोमवार को प्रकाशित संपादकीय में लिखा गया है, ‘सरकार को यह कहना बंद करना चाहिए कि ये तथाकथित माओवादी केंद्र की मौजूदा सरकार को पलट सकते हैं. यह मूर्खतापूर्ण बयान है.’ मराठी दैनिक में कहा गया है कि मनमोहन सिंह की सरकार देश की जनता ने हटायी थी न कि माओवादियों या नक्सलियों ने. आज सरकारें लोकतांत्रिक तरीके से ही हटाई जा सकती हैं.

शिवसेना ने कहा कि पुलिस को ऐसे दावे करते समय संयम बरतना चाहिए. पार्टी ने कहा कि अगर माओवादियों में सरकारें पलटने की क्षमता होती तो वे पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, मणिपुर में अपना नियंत्रण नहीं गंवाते. शिवसेना ने आगाह किया कि पुलिस को जीभ पर लगाम लगाकर काम करना चाहिए, अन्यथा मोदी और भाजपा का एक बार फिर मजाक बनेगा. पार्टी ने कहा कि एक और मुद्दा प्रधानमंत्री की सुरक्षा का है. मोदी की सुरक्षा काफी उच्च स्तर की है और इस संबंध में चिंता करने की जरूरत नहीं है.

संपादकीय में कहा गया है, ‘‘इंदिरा गांधी और राजीव गांधी में निडरता थी. उस साहस ने उनके साथ घात किया. लेकिन मोदी इस तरह का साहस नहीं करेंगे.’’ इसमें माओवाद के प्रति सहानुभूति रखने वालों को भी निशाना बनाया गया है. इसके अलावा भगवा आतंकवाद संकल्पना के लिए पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री तथा कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम पर भी निशाना साधा गया है. पार्टी ने कहा कि नक्सलवाद कश्मीर के आतंकवादियों की तुलना में ज्यादा भयावह है और वह देश को अंदर से खोखला कर रहा है.

About mpekhabar bhopal

Check Also

स्कूल खुलते बच्चों में फैला कोरोना, हरियाणा में 80 छात्रों के पॉजिटिव होने से मचा हड़कंप

रेवाड़ी कोरोना महामारी के बीच तमाम ऐहतियातों के साथ अलग-अलग राज्यों में स्कूलों को खोला ...

Leave a Reply