देश में बढ़ी कोरोना की रफ्तार: सिर्फ 4 दिन में 1000 से 2000 हुए केस

देश में बढ़ी कोरोना की रफ्तार: सिर्फ 4 दिन में 1000 से 2000 हुए केस

- in राष्ट्रीय
0

नई दिल्ली

भारत में कोरोना वायरस के मामले अब तेजी से बढ़ रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक अब तक देश में कोरोना वायरस संक्रमण के 2069 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। 53 लोगों की इस घातक वायरस ने जान ले ली है, जबकि 155 लोग या तो ठीक हो चुके हैं या उन्हें छुट्टी दी जा चुकी है। अब तक देश के 29 राज्यों में कोरोना वायरस फैल चुका है। पिछले कुछ दिनों से इसके संक्रमण की रफ्तार बहुत तेज हुई है।

भारत में किस रफ्तार से फैल रहा कोरोना वायरस
पिछले महीने की शुरुआत यानी 1 मार्च तक देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या महज 3 थी। 14 मार्च तक यह आंकड़ा बढ़कर 100 हुआ। 24 मार्च को इस आंकड़े ने 500 को पार किया और 29 मार्च को हजार का आंकड़ा छुआ था। यानी 1 मार्च को 3 केस के बाद अगले 28 दिनों में यह आंकड़ा 1000 पहुंच गया। उसके बाद इसके संक्रमण में कितनी तेजी आई इसका अंदाजा इसी ले लगाया जा सकता है कि महज 4 दिनों में यह आंकड़ा 1000 से बढ़कर 2000 हो चुका है।

तबलीगी जमात की लापरवाही पड़ी भारी
भारत में कोरोना वायरस के आंकड़ों में इस तेजी के लिए बहुत हद तक तबलीगी जमात की लापरवाही जिम्मेदार है। निजामुद्दीन मरकज का मामला जैसे ही खुला, कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने लगे। मध्य मार्च में मरकज में हुए मजहबी जलसे में देश के 19 राज्यों और 16 देशों के करीब 8 से 9 हजार लोग शामिल हुए थे।

जलसे के बाद लॉकडाउन तक करीब ढाई हजार लोग मरकज में भी रहे जबकि बाकी लोग अपने-अपने राज्यों में लौट गए। इनमें से कई लोग संक्रमित हो चुके थे, जिसकी जांच के बाद पुष्टि हुई। अब ये लोग किन-किन लोगों के संपर्क में रहे, ट्रांसपोर्ट के किन-किन साधनों का इस्तेमाल किया, इन सभी बातों को ट्रेस करना बहुत बड़ी चुनौती बन चुकी है। राज्यों ने युद्धस्तर पर कोशिशों के बाद अब तक निजामुद्दीन जलसे में हिस्सा ले चुके लोगों और उनके सीधे संपर्क में आए करीब 9 हजार लोगों को चिह्नित कर क्वारंटीन में रखा है।

तबलीगी जमात से जुड़े 19 लोगों की हो चुकी है मौत
देश में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक 2069 मामलों में 20 प्रतिशत से ज्यादा अकेले तबलीगी जमात से जुड़े लोग हैं। ऐसे 500 से ज्यादा लोगों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। यह आंकड़ा अभी बढ़ सकता है क्योंकि कई के सैंपलों की जांच रिपोर्ट अभी आनी है। अकेले दिल्ली में कोरोना वायरस के 293 केस हो चुके हैं, जिनमें से 182 तो सिर्फ मरकज से जुड़े हुए हैं। राजधानी में मरकज से जुड़े 2 लोगों की मौत भी हो चुकी है। अब तक देश में मरकज से जुड़े 19 लोगों की कोरोना वायरस से मौत की पुष्टि हो चुकी है।

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 13 मौतें
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि देश में फिलहाल संक्रमण के 1860 मामले हैं जबकि 155 लोग या तो ठीक हो चुके हैं या उन्हें छुट्टी दी जा चुकी है। मंत्रालय ने शाम 6 बजे तक के अपडेट आंकड़े में कहा कि मौत के 3 और मामले सामने आए हैं। एक गुजरात से और 2 दिल्ली से। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 13 मौतें हुई हैं, इसके बाद गुजरात (7), मध्यप्रदेश (6), पंजाब (4), कर्नाटक (3), तेलंगाना (3), पश्चिम बंगाल (3), दिल्ली (4), जम्मू कश्मीर (2), उत्तर प्रदेश (2) और केरल (2) हैं। आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, बिहार और हिमाचल प्रदेश में एक -एक मौत हुई है।

कुल 2069 केस में 55 विदेशी
मंत्रालय ने बताया कि संक्रमण के 2,069 मामलों में 55 विदेशी नागरिक भी हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। महाराष्ट्र में 335, केरल में 265 और तमिलनाडु में 234 मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक दिल्ली में संक्रमित लोगों की संख्या 219 है। हालांकि अब यह आंकड़ा बढ़कर 293 हो चुका है। उत्तर प्रदेश में संक्रमण के अब तक 113 मामले आए हैं। इसके अलावा कर्नाटक में 110, मध्य प्रदेश में 99, गुजरात में 87, आंध्र प्रदेश में 86 और जम्मू-कश्मीर में 62 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। पश्चिम बंगाल में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 53 हो गई जबकि पंजाब में 46, हरियाणा में 43, बिहार में 24, चंडीगढ़ में 16 और लद्दाख में 13 मामले सामने आए हैं।

Leave a Reply