जयपुर, मुंबई: कोरोना को हराने पर भी जिंदगी से क्यों हारे वे 2?

जयपुर, मुंबई: कोरोना को हराने पर भी जिंदगी से क्यों हारे वे 2?

नई दिल्ली

जयपुर और मुंबई में वे दो कोरोना को हरा चुके थे, लेकिन फिर भी जिंदगी से हार गए। कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद भी क्या जान का खतरा बना रहता है? पहले जयपुर और आज महाराष्ट्र में हुई मौत से यह सवाल सभी को परेशान कर रहा है। दोनों जगहों पर मरीज कोरोना से ठीक हो चुके थे, फिर अन्य बीमारी से दोनों की जान चली गई। क्या ऐसे में भी कोरोना को उनकी मौत का जिम्मेदार माना जा सकता है? जवाब है हां, बिल्कुल। जाने माने डॉक्टर और मेदांता हॉस्पिटल के चेयरमैन त्रेहन बताते हैं कि कोरोना पूरी बॉडी पर असर डालकर दिल, फेफड़ों, किडनी पर गंभीर असर डालता है।
पढ़ें- किस राज्य में कोराना के कितने मरीज, पूरी लिस्ट

कोरोना वायरस के बारे में बात हुए डॉक्टर त्रेहन ने बताया कि यह बिल्कुल नए तरीके का वायरस है। इसके कैरेक्टर के बारे में किसी को नहीं पता। वह बोले कि यह वायरस इसलिए जानलेवा है, क्योंकि यह पूरे शरीर को प्रभावित करता है।

क्यों हो रही रिकवर होने के बाद मौत
निजी चैनल से बात करते हुए डॉक्टर त्रेहन ने कहा कोरोना का सबसे पहले असर फेफड़ों और आंत पर होता है। उसके बाद किडनी और फिर लिवर पर। इस तरह यह वायरस पूरे शरीर पर असर करता है। डॉक्टर त्रेहन कहते हैं कि जो इस वायरस से बच जाए, उसकी किस्मत अच्छी होती है। लेकिन इससे उबरे मरीज के लंग्स में फिर भी बीमारी की गुंजाइश बनी रहती है। कई को किडनी और दिल की प्रॉब्लम हो जाती है। इससे बाद में मौत भी हो जाती है।

महाराष्ट्र में 8वीं मौत, ठीक हो चुका था शख्स
कोरोना वायरस के संक्रमण से मुंबई में सोमवार को तीसरी मौत हुई। फिलीपींस का 68 वर्षीय यह व्यक्ति कोरोना से उबर चुका था। बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने एक बयान में बताया कि व्यक्ति शुरु में कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था और उसका यहां कस्तूरबा अस्पताल में इलाज किया गया। उसकी जांच रिपोर्ट का नतीजा नेगेटिव आने पर उसे एक प्राइवेट अस्पताल भेज दिया गया था। अब रविवार रात को निजी अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

जयपुर में इटली के शख्स की ऐसे ही मौत
इससे पहले 20 मार्च को जयपुर में एक इटली के शख्स की मौत हुई थी। वह भी कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुका था। इटली का वह शख्स 69 साल का था। जयपुर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल (फॉर्टिस) में वह मौत हुई थी। इटली के इस शख्स की पत्नी भी कोरोना पॉजेटिव थीं। इलाज के बाद उनकी रिपोर्ट भी नेगेटिव आई, फिलाहल उन्हें छुट्टी दे दी गई है।

Leave a Reply