MP में ‘लेटर वॉर’: स्पीकर ने लिखा- लापता विधायकों को लेकर टेंशन में हूं

MP में ‘लेटर वॉर’: स्पीकर ने लिखा- लापता विधायकों को लेकर टेंशन में हूं

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल

मध्य प्रदेश में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच प्रदेश कांग्रेस अपने बागी विधायकों से संपर्क कायम करने के लिए मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है। इस बीच मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने राज्यपाल लालजी टंडन को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने कहा है कि विधायकों का संरक्षक होने के नाते मुझे उनकी चिंता करना जरूरी है। साथ ही उन्होंने राज्यपाल से अनुरोध किया है कि वो विधायकों को वापस लाने की कोशिश करें और ये भी जानकारी लें कि किसके दबाव में विधायक कहां गए हैं।

‘विधायकों का संरक्षक होने के नाते मुझे उनकी चिंता’
मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने राज्यपाल लालजी टंडन को लिखे पत्र में कहा है कि 16 विधायकों के त्याग पत्र मुझे दूसरे लोगों के माध्यम से मिला है। विधानसभा की प्रक्रिया के तहत इन विधायकों को उपस्थित होने के निर्देश दिए गए थे लेकिन एक भी विधायक उपस्थित नहीं हुए हैं। ऐसे में उनका त्याग पत्र मेरे सामने विचाराधीन है। 16 मार्च को विधानसभा की कार्यवाही के दौरान भी ये विधायक सदन से गैरहाजिर ही रहे। ऐसे में इन सदस्यों के परिजनों की ओर उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता व्यक्त की गई है। विधानसभा अध्यक्ष के नाते मैं भी उनके लापता होने को लेकर बेहद चिंतित हूं।

स्पीकर ने किया राज्यपाल से अनुरोध- विधायकों को वापस लाएं
विधानसभा अध्यक्ष ने अपने पत्र में ये भी कहा कि सोशल मीडिया पर विधायकों के कई वीडियो सामने आए हैं। हालांकि, इस्तीफा देते समय विधायक के परिवार का कोई सदस्य मेरे सामने नहीं आया है। इससे ये आशंका हो रही कि ये इस्तीफे दबाव डालकर लिखवाए गए हैं। क्या यह संविधान के मौलिक अधिकारों में स्वतंत्रता के अधिकारों का उल्लंघन नहीं है। साथ ही विधानसभा अध्यक्ष ने राज्यपाल से विधायकों को स्वतंत्र कराने का अनुरोध किया है।

विधायकों के परिजनों ने जताई उनकी सुरक्षा की चिंता
विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने राज्यपाल लालजी टंडन से लापता विधायकों को स्वतंत्र करवाने और उनके सुरक्षित वापस लाने में सहयोग करने की अपील की है। जिससे इन विधायकों के परिजनों की शंकाएं दूर की जा सके। इससे पहले, मध्य प्रदेश में जारी सियासी घमासान को लेकर मंगलवार सुबह सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। शीर्ष अदालत ने मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की याचिका पर बुधवार की सवेरे साढ़े दस बजे तक जवाब देने का निर्देश दिया था।

विधायकों को सुरक्षित वापस लाने में सहयोग की अपील
शिवराज सिंह चौहान ने इस याचिका में कमलनाथ सरकार को विधानसभा में तत्काल विश्वास मत हासिल करने का निर्देश देने का अनुरोध किया है। मध्य प्रदेश कांग्रेस ने अपनी याचिका में न्यायालय से उसके विधायकों को बेंगलुरू में गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाये जाने की केन्द्र, कर्नाटक सरकार और प्रदेश की भाजपा इकाई की कार्रवाई को गैरकानूनी घोषित करने का अनुरोध किया है ।

Leave a Reply