विधायक दल के नेता चुने गए शिवराज, आज रात चौथी बार बनेंगे MP के मुख्यमंत्री

विधायक दल के नेता चुने गए शिवराज, आज रात चौथी बार बनेंगे MP के मुख्यमंत्री

- in भोपाल/ म.प्र
0

भोपाल,

मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी सरकार बनाने जा रही है. वहीं मध्य प्रदेश बीजेपी ने शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नेता चुन लिया है. शिवराज सिंह चौहान रात 9 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. मध्य प्रदेश में सियासी घमासान के बाद अब भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने जा रही है. इसके साथ ही राजभवन ने मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण के लिए रात 9 बजे का वक्त दिया है. शिवराज सिंह चौहान रात 9 बजे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. इसके साथ ही शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ चौथी बार लेंगे.

मंत्रिमंडल का शपथ ग्रहण बाद में
मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि सोमवार शाम को भाजपा विधायक दल की बैठक में शिवराज सिंह चौहान को दल का नेता चुना गया। वह आज रात नौ बजे प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उन्होंने कहा कि आज रात केवल मुख्यमंत्री ही शपथ लेंगे। उनके मंत्रिमंडल के किसी भी सदस्य को शपथ नहीं दिलाई जाएगी। शर्मा ने यहां मीडिया से कहा, ”कोरोना वायरस के खतरे के कारण तत्काल यह निर्णय लिया गया था कि भाजपा विधायक दल की बैठक बुला कर नेता का चुनाव किया जाए। ताकि वह मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर इस महामारी से प्रभावी तरीके से निपटने के लिए सरकारी तंत्र का उपयोग करे।’’

शर्मा ने बताया कि भाजपा के केन्द्रीय पर्यवेक्षक दिल्ली से वीडियो कान्फ्रेस के जरिए भोपाल में हुई भाजपा विधायक दल की बैठक में शामिल हुए। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर सभी विधायकों से हमने अनुरोध किया है कि वे किसी अन्य व्यक्ति को अपने साथ में लेकर न आयें। केवल विधायक उपस्थित रहेंगे। कोरोना वायरस से निपटने के लिए मास्क से लेकर बाकी जो सारे मानदंड हैं, बैठने में डेढ़ मीटर की दूरी हो, ये सारे मानदंड के तहत ही बैठक होगी और उसी के तहत शपथ ग्रहण का समारोह भी होगा। शर्मा ने कहा, ”हमने विधायकों से कहा है कि आप किसी प्रकार के अपने सहयोगी, स्टाफ, गनमैन को लेकर न आयें।”

उन्होंने बताया कि इन विधायकों के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर की व्यवस्था हमने की है। हमने शपथ ग्रहण के दौरान भी ऐसी ही व्यवस्था का अनुरोध राजभवन से किया है। जब उनसे सवाल किया गया कि क्या मुख्यमंत्री के अलावा मंत्रिमंडल भी आज रात को शपथ लेगा, तो इस पर शर्मा ने कहा, ”आज केवल मुख्यमंत्री शपथ लेंगे। उसके बाद बाकी चीजें आगे होंगी।”

कोरोना वायरस के खतरे की ओर संकेत करते हुए उन्होंने आगे कहा,”अभी तो इमरजेंसी इस बात की है कि सरकार का जो पूरा प्रसाशन तंत्र है उसको संभाला जाये। इन सारी चीजों के लिए केन्द्रीय नेतत्व ने जल्दी ही :नये मुख्यमंत्री बनाने का: निर्णय किया है।” जब उनसे सवाल किया गया कि पहली चुनौती सरकार बनने के बाद क्या होगी, तो इस पर शर्मा ने कहा, ”सबसे पहले चुनौती कोरोना से निपटने की होगी। इसे मध्यप्रदेश से भगाना है।”

चौथी बार मुख्यमंत्री बनेंगे शिवराज
शिवराज सिंह चौहान आज सीएम पद की शपथ लेने के बाद चौथी बार मध्य प्रदेश की कमान संभालेंगे. पहली बार वह 29 नवंबर 2005 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे. इसके बाद शिवराज सिंह चौहान 12 दिसंबर 2008 में दूसरी बार सीएम बने. 8 दिसंबर 2013 को शिवराज ने तीसरी बार सीएम पद की शपथ ली थी. जानकारी के मुताबिक कोरोना वायरस के कारण शपथ ग्रहण सादगी के साथ होगा. राजभवन के भीतर शपथ की तैयारी शुरू हो गई है. वहीं शिवराज के साथ मिनी कैबिनेट भी शपथ ले सकती है. माना जा रहा है कि कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए इस शपथ ग्रहण समारोह में कम ही लोग हिस्सा लेंगे.

क्यों गिरी थी कमलनाथ सरकार?
हाल में ही मध्य प्रदेश से कमलनाथ सरकार की विदाई हुई है. दरअसल, कांग्रेस के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था. इसमें 6 मंत्री शामिल थे. स्पीकर ने मंत्रियों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया था. इस्तीफे के कारण कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी, लेकिन फ्लोर टेस्ट कराने की बजाए सदन को स्थगित कर दिया गया था.

SC का आदेश और कमलनाथ का इस्तीफा
इसके बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा. सुप्रीम कोर्ट ने कमलनाथ सरकार को तुरंत फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया. आदेश के बाद स्पीकर ने सभी 16 विधायकों का इस्तीफा मंजूर किया और फ्लोर टेस्ट से पहले ही कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.

Leave a Reply